पहली ही बारिश में खुली अंडरपास की पोल, कई स्थानों से रिस रहा पानी

पहली ही बारिश में खुली अंडरपास की पोल, कई स्थानों से रिस रहा पानी
Spread the love

ऋषिकेश। हरिपुर कला में मोतीचूर स्थित भगत सिंह कॉलोनी की एप्रोच रोड के रूप में बनाए गए अंडपास की गुणवत्ता की पोल पहली बारिश में खुल गई। अंडर पास के छत से कई स्थानो से पानी टपक रहा है। इससे ग्रामीणों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

हाइवे निर्माण के साथ शुरू हुई क्षेत्र के लोगों की समस्याएं समाप्त होने का नाम नहीं ले रही हैं। भगत सिंह कॉलोनी को जाने हेतु बनाया गये अंडरपास की पहली ही बरसात में पोल खुल गई। अंडरपास की छत से लगातार बारिश का पानी टपक रहा है तो वहीं सही तरीक़े से ढाल न दिए जाने के कारण बरसात का पानी अंडरपास के अंदर ही जमा हो रहा है जिसके कारण मोतीचूर पटरी पार भगत सिंह कॉलोनी आने-जाने वाले ग्रामीणों को आवागमन में भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

समाजसेवी डॉ राजे नेगी ने बताया कि पहले ही मोतीचूर फ्लाईओवर से कनेक्टिविटी न मिल पाने से ग्रामीण परेशान दुखी है अब बारिश होने पर अंडरपास से गुजरते समय पानी की निकासी न होने के कारण ग्रामीणों के जूते- चप्पल एवं कपड़े भीग रहे हैं वही अंडरपास पर लगाई गई लाइटे शोपीस बनकर रह गई है।

शुरुआत में तो लाइट कुछ समय तक जगमगाती रही लेकिन अब रात के समय यहां पर पूरी तरह अंधेरा छाया रहता है। नेगी ने कहा कि इस अंडरपास को बनवाने के लिए ग्रामीणों ने कई वर्षों तक कई दफा धरना प्रदर्शन एवं आमरण अनशन किया, उसके बाद क्षेत्रीय सांसद निधि से करीब तीन करोड से अधिक धनराशि की लागत से अंडरपास को कुछ माह पूर्व में बनाया गया।

स्थानीय निवासी सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र सिंह रोड़ीयाल ने बताया कि ग्रामीणों को खास तौर पर रात के समय अंडरपास से गुजरने में भारी दिक्कत का सामना करना पड़ता है क्योंकि यह क्षेत्र राजाजी नेशनल पार्क के अंतर्गत आता है। हाल ही में यहां पर अभी एक बाघ को भी रेस्क्यू कर पकड़ा था। लगातार मार्ग पर जंगली जानवरों का खतरा बना रहता है।कभी हाथी तो कभी बाग की आमद इस क्षेत्र में होती रहती है जिसके कारण कई छोटी मोटी घटनाएं भी होती रही है।समाजसेवी डॉ राजे नेगी ने संबंधित विभाग से जलभराव के निकासी एवं अंडरपास की लीकेज को बंद करने के साथ ही प्रकाश की व्यवस्था की मांग की है।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.