एससीईआरटी में गणित विषय में तीन दिवसीय संदर्भ समूह प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू

एससीईआरटी में  गणित विषय में तीन दिवसीय संदर्भ समूह प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू
Spread the love

देहरादून। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद में गणित विषय में तीन दिवसीय संदर्भ समूह प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू हो गई। कार्यशाला में स्कूलों में गणित प्रयोगशाला तैयार करने पर जोर दिया गया।

सोमवार को तीन दिवसीय कार्यशाला को निदेशक अकादमिक शोध एवं प्रशिक्षण आरके कुंवर ने शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति 2020 में पूर्व प्राथमिक स्तर से ही बच्चों में गणित तथा भाषा की दक्षताओं के विकास के लिए फाउण्डेशनल लिटरेसी एवं न्यूमरेसी पर बल दिया गया है।

इसके लिए भाषा तथा गणित के कौशलों को वर्ष 2026-27 तक प्राप्त करने का लक्ष्य रखा गया है । उन्होंने गणित शिक्षण को प्रभावी और व्यावहारिक बनाने के लिए गणित प्रयोगशाला तैयार करने और शिक्षण में गणित प्रयोगशाला के प्रयोग के महत्व को समझाया।

उन्होंने ने कहा कि कुछ डायटों में अच्छी गणित प्रयोगशालाऐं बनायी गयी हैं डायट स्तर पर संचालित गणित विषय के प्रशिक्षण में इन प्रयोगशालाओं का उपयोग किया जाना चाहिए। उन्होंने गणित विषय के प्रभावी शिक्षण के लिए ब्लॉक स्तर पर भी संदर्भ समूह बनाये जाने की आवश्यकता जतायी।
कुंवर ने कहा कि डायट अपने स्तर पर जिला संदर्भ समूह का गठन करें और हर चौथे माह में शिक्षकों द्वारा किये जा रहे नवाचारी कार्यों को साझा करने का अवसर दें।

एससीईआरटी के उप निदेशक, हिमानी बिष्ट ने राज्य संदर्भ समूह में डायट की भूमिका को स्पष्ट करते हुए कहा कि जिले में शिक्षा की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए डायट एक शीर्ष संस्थान है। डायट की स्थापा प्रारम्भिक स्तर की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए की गयी थी किन्तु अब माध्यमिक स्तर तक की गुणवत्ता का दायित्व भी डायट के पास आ गया है।

इस लिए डायट की जिम्मेदारी अब और भी बढ़ गयी है। डायट को शिक्षकों से जरुरत के हिसाब से लगातार ऑनलाइन तथा ऑफलाइन संवाद बनाये रखना होगा। प्रत्येक विषय में डायट को जिला संदर्भ समूह बनाना होगा। उन्होंने प्रत्येक डायट के सदस्यों को दूसरी डायटों में एक्सपोजटर विजिट कराये जाने की आवश्यकता पर भी बल दिया।

डॉ. कृष्णानन्द बिज्ल्वाण, सहायक निदेशक, एससीईआरटी ने कहा कि पूर्व प्राथमिक से उच्च माध्यमिक तक चरणबद्ध तरीके से प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करना होगा प्रथम चरण में फाउण्डेशनल लिटरेसी एवं न्यूमरेसी के क्रियान्वयन पर ध्यान केन्द्रित करना होगा।

इस अवसर पर सीमैट के विभागाध्यक्ष, दिनेश चन्द्र गौड़ तथा विनोद कुमार ढौंडियान ने नई शिक्षा नीति के संदर्भ में गणित विषय की पैडागौजी पर प्रकाश डाला उद्घाटन सत्र का संचालन करते हुए मनोज शुक्ला प्रवक्ता, एससीईआरटी ने कहा कि तीन दिवसीय इस कार्यक्रम राज्य संदर्भ समूह के सदस्यों को अलग-अलग सत्रों में गणित के विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिया जायेगा। एससीईआरटी, हरियाणा के उप निदेशक, सुनील बजाज द्वारा गणित के शिक्षण में 21वीं सदी के कौशल तथा अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय बंगलौर के विशेषज्ञ, हृदयकांत दीवान द्वार गणित की पैडागॉजी तथा मूल्यांकन पर सत्र चलाया जायेगा।

दून स्कूल देहरादून के विशेषज्ञ चंदन सिंह घुघत्याल द्वारा गणित में ऑनलाइन परीक्षा तथा प्रभावी बहु विकल्पीय प्रशनों के निर्माण के सम्बन्ध में डायट के विशेषज्ञों तथा शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंत में उपस्थित शिक्षकों द्वारा जिलेवार गणित शिक्षा में किये जा रहे नवाचारी कार्यों को प्रस्तुत किया जायेगा तथा नये वर्ष की कार्ययोजना को बनाया जायेगा।

इस अवसर पर सहायक निदेशक, एससीईआरटी अनीता द्विवेदी, डॉ0 उमेश चमोला, सुशील चन्द्र गैरोला तथा हिमानी भट्ट ने भी विचार व्यक्त किये।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.