उत्तराखंड में नौकरशाही हावी, सरकार मस्त

उत्तराखंड में नौकरशाही हावी, सरकार मस्त

uttaraप्रदेश के वन मंत्री डा. हरक सिंह रावत के नौकरशाही के हावी होने के बयान को राजनीतिक गलियारे में भले ही दूसरे तरीके से देखा समझा जा रहा हो मगर, सच है कि उत्तराखंड में नौकरशाही हावी है।

नौकरशाही ने प्रदेश का हर स्तर पर बुरा हाल कर दिया है। नौकरशाही हद स्तर तक हावी हो चली है। अभी तक की सरकारें नौकरशाही का रवैया नहीं बदल सकी हैं। परिणाम सरकारें हमेशा बेचारगी की मुद्रा में देखी गई हैं।

वन मंत्री डा. हरक सिंह रावत ही नहीं आम आदमी भी ऐसा ही मानने लगा है। ऐसे लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है जो ये सोचने लगे हैं कि इससे अच्छा तो उत्तर प्रदेश था। लोग उत्तर प्रदेश के दौर की खूबियां गिनाने लगे हैं।

नौकरशाही को घोड़ा और सरकार को घुड़ सवार बताने वाले पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी नौकरशाही को साधने में असफल रहे। कड़क मिजाज पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी का शासन भी औसत रहा। सचिवालय में बैठे अधिकारी ही नहीं जिलों और तहसीलों में बैठे अधिकारियों का रवैया भी ठीक नहीं है।

अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि तहसील स्तरीय समस्याओं के निदान को लोग मुख्यमंत्री के पास पहुंच रहे हैं। अधिकारी सीधे मुंह बात करने तक को तैयार नहीं होते हैं। ग्रामीणों के साथ तो अधिकारियों को रवैया बेहद उपेक्षापूर्ण रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रो. रेणु नेगी होंगी गवर्नमेंट पीजी कॉलेज नई टिहरी की प्रिंसिपल

देहरादून। गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज और पीजी कॉलेज के