अशासकीय विद्यालयों के साथ भेदभाव पर माध्यमिक शिक्षक संघ नाराज

अशासकीय विद्यालयों के साथ भेदभाव पर माध्यमिक शिक्षक संघ नाराज
Spread the love

कोटद्वार। सरकार के स्तर से राज्य के अशासकीय विद्यालयों के साथ हो रहे भेदभाव पर माध्यमिक शिक्षक संघ ने रोष प्रकट किया। मांग की गई कि अशासकीय स्कूलों को भी राजकीय स्कूलों की तरह योजनाओं का लाभ दिया जाए।

रविवार को इण्टर कॉलेज मोटाढाक में संपन्न हुई उत्तराखण्ड माध्यमिक शिक्षक संघ की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक का शुभारम्भ संघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अनिल शर्मा, प्रदेश महामंत्री जगमोहन रावत व जिलाध्यक्ष डॉ महावीर सिंह बिष्ट द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वल्लित कर किया गया।

बैठक में अशासकीय विद्यालयों, यहां कार्यरत शिक्षकों, यहां पढ़ रहे छात्र/छात्राओं के विभिन्न मुददों पर चर्चा की गई। सरकार द्वारा अशासकीय विद्यालयों के साथ किए जा रहे भेदभाव पर रोष प्रकट किया गया।

तदर्थ शिक्षकों के विनियमतीकरण की माँग की गई। बैठक में प्रदेश के विभिन्न जिलों से आये पदाधिकारियों द्वारा पुरानी पेंशन योजना बहाल करने, अशासकीय विद्यालयों के कर्मचारियों व अध्यापको को वेतन माह की पहली तिथि को भुगतान करने, वर्ष 2002 की भाँति स्वतः सत्र विस्तारण का लाभ देने,, चयन व प्रोन्नत वेतनमान, प्रोन्नत वेतनमान, वरिष्ठता, पेंशन निर्धारण, ग्रैचुटी आदि में तदर्थ सेवाकाल की गणना करने, आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत अशासकीय विद्यालयों के अध्यापको व कर्मचारियों के आयुष्मान गोल्डन कार्ड बनवाने, प्रधानाचार्य और शिक्षक चयन प्रक्रिया में पी एच डी,,खेलकूद, एम एड व शैक्षणिक अनुभव के अधिभार के अंक 25 अप्रैल 2018की भाँति करने, चयन प्रोन्नत वेतनमान में एक वेतन वृद्धि दिलाने की मांग की गई।

18 अक्टूबर 2011से पूर्व पी टी ए शिक्षकों के रूप में सेवायोजित तदर्थ शिक्षकों का विनियमतीकरण करने, पौड़ी सहित प्रदेश के अन्य जनपदों में समान परिस्थितियों में कार्यरत पी टी ए शिक्षकों को मानदेय की श्रेणी में लाकर उन्हें टी ई टी परीक्षा पास करने हेतु दो वर्ष का समय देने, अर्हताधारी प्रधानाचार्यो को डाउन ग्रेड प्रदान करने, राजकीय विद्यालयों की भाँति अशासकीय विद्यालयों को समग्र शिक्षा अभियान का लाभ देने, अशासकीय विद्यालयों में भी कक्षा अनुभाग का निर्धारण राजकीय विद्यालयों की भाँति करने की माँग की गई, डॉ अनिल शर्मा ने कहा कि इन मांगों के निस्तारण के संबंध भी शीघ्र ही प्रदेश के मुख्यमंत्री से वार्ता की जायेगी।

बैठक के अंत में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विद्यालय परिसर में रुद्राक्ष, तुलसी, अमरुद, पीपल के पौधे लगाए गए बैठक में डॉ अनिल शर्मा, जगमोहन रावत, विनोद चंद्र दीक्षित, यशवंत सिंह भंडारी, डॉ महावीर बिष्ट, कैलाश थपलियाल, सचिन बौंठियाल, धर्मपाल बिष्ट, संजय रावत, प्रदीप त्यागी, विनोद तड़ियाल, सुखदेव सिंह रावत, स्वतंत्र मिश्रा, राजेश सैनी,, कैलाश अंडोला, जगदीश चौहान, सुरेंद्र सिंह रावत, नरेश कोटनाला, भारत बिष्ट, अजय बिष्ट, संदीप रावत, सुभाष कल्याणी, अरुण कुंवर समेत प्रदेश भर से आये शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।

Tirth Chetna

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *