गढ़वाल विश्वविद्यालय की प्रो. इंदु पांडेय खंडूड़ी को इंटरनेशनल एक्सीलेंस अवार्ड

गढ़वाल विश्वविद्यालय की प्रो. इंदु पांडेय खंडूड़ी को इंटरनेशनल एक्सीलेंस अवार्ड
Spread the love

श्रीनगर। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के संकाय विकास केंद्र की निदेशक प्रो. इंदु पांडेय खंडूड़ी का आईसीआरटी के इंटरनेशनल एक्सीलेंस अवार्ड 2022 से नवाजा गया है।

रिसर्च और ट्रेनिंग के क्षेत्र में हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय ने खास नाम हासिल किया है। इस काम को बेहतर तरीके से प्रस्तुत करने हेतु विश्वविद्यालय के संकाय विकास केंद्र की निदेशक प्रोफेसर इंदु पाण्डेय खंडूरी को आई सी ई आर टी की कोर कमेटी द्वारा इंटरनेशनल एक्सीलेंस अवार्ड 2022 प्रदान किया गया है।

यह अवार्ड प्रो खंडूरी को आईसीईआरटी एवं स्कूल ऑफ एजुकेशन, सेंट्रल यूनिवर्सिटी हरियाणा के संयुक्त तत्त्वावधान में आयोजित वेब कांफ्रेंस में प्रदान किया गया।

निदेशक के रूप में विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रमों तथा शोध के क्षेत्र में नित नई गतिविधियों को समर्पित भाव से करने और दर्शन के क्षेत्र में उनकी व्यक्तिगत उपलब्धियों के लिए प्रदान किया गया है।

प्रो. खंडूड़ी ने कहा कि गढ़वाल विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. अन्नपूर्णा नौटियाल के स्नेह पूर्ण मार्गदर्शन और सहयोग के कारण वह इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों को आयोजित करने में सफल रही हैं और इन आयोजनों की इस अवार्ड में बड़ी भूमिका है।

इसके अतिरिक्त उन्होंने फैकल्टी डेवलपमेंट सेंटर के कुशल संचालन के लिए मार्गदर्शन देने वाले गवर्निंग बॉडी के सम्मानित सदस्यों प्रो विनोद नौटियाल, प्रो आर के मैखुरी, कुलसचिव डॉ ए के खंडूरी तथा वित्त अधिकारी डॉ ए के मोहंती को भी श्रेय दिया है।

उन्होंने बताया कि फैकल्टी डेवलपमेंट सेंटर के प्रशिक्षण कार्यक्रमों को निरंतर आयोजित करने में डॉ राहुल कुंवर सिंह, डॉ सोमेश थपलियाल तथा डॉ कविता भट्ट आदि का सहयोग सराहनीय रहा है। उन्होंने इन सभी के साथ ही पारुल बलवीर और रामेश्वरी को भी सहयोगी के रूप में धन्यवाद दिया है।

प्रो इंदु पाण्डेय खंडूड़ी मूल रूप से दर्शनशास्त्र विभाग में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं लेकिन इसके अतिरिक्त उन्होंने फैकेल्टी डेवलपमेंट सेंटर, हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय को अपनी विशेष सेवाएं देते हुए उल्लेखनीय कार्य किया है।

पिछले कुछ वर्षों में जब पूरा विश्व कोविड 19 के दौर से गुजर रहा था ऐसी स्थिति में भी प्रोफेसर खंडूरी ने फैकेल्टी डेवलपमेंट सेंटर में सेल्फ सस्टेंड मोड में प्रशिक्षण के कार्यक्रमों को निरंतर गति प्रदान की।

उन्होंने पाश्चात्य तथा भारतीय दर्शन के अनेक पक्षों पर शोध परक कार्य के अलावा कई देशों की शैक्षणिक यात्राएं भी कर चुकी हैं। प्रोफेसर खंडूड़ी ने बताया कि वर्तमान में फैकेल्टी डेवलपमेंट सेंटर हेमंवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय में भारत भर से अनेक राज्यों के शिक्षक प्रतिभागी प्रशिक्षण हेतु प्रतिभाग करते हैं। इस दृष्टिकोण से पर्वतीय क्षेत्र में स्थित यह फैकेल्टी डेवलपमेंट सेंटर दूरस्थ होने के बावजूद भी अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर रहा है।

निरंतर कार्य करते हुए यह केंद्र इस समय प्रशिक्षण हेतु भारत भर के शिक्षकों में अत्यंत लोकप्रिय है। इस प्रशिक्षण केंद्र की कार्यपद्धति की प्रशंसा निरंतर होती रही है। प्रशिक्षण को व्यवस्थित और अनुशासित ढंग से करवाते हुए शिक्षकों के लिए उपयोगी बनाने का जो उद्देश्य सरकार के नई शिक्षा नीति का भी एक अंग है उसको प्रोफेसर इंदु पांडे खंडूरी के कुशल निर्देशन में गढ़वाल विश्वविद्यालय के संकाय विकास केंद्र ने कर दिखाया है।

 संकाय विकास केंद्र शिक्षा मंत्रालय, नई दिल्ली की परियोजना पंडित मदन मोहन मालवीय नेशनल मिशन फॉर टीचर्स एंड टीचिंग के अंतर्गत आजकल सेल्फ सस्टेंड मोड में अपनी सेवाएं दे रहा है। सेल्फ सस्टेंड मोड में सेंटर को संचालित करने की अपनी अलग तरह की चुनौतियां हैं।

 

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.