उत्तराखण्ड विधानसभा मानसून सत्र मा मंगलवार कुणी व्हाल 5370 करोड अनूपूरक बजट,

उत्तराखण्ड विधानसभा मानसून सत्र मा मंगलवार कुणी व्हाल  5370 करोड अनूपूरक बजट,
Spread the love

देहरादून। विधानसभा मानसून सत्र भले ही सोमवार बिटी शुरू व्हे ग्यायी। लेकिन सत्ता पक्ष अर विपक्ष मा असली जोर अजमाईश मंगलवार बिटीन दिखेली। मंगलवार कुणी सरकार तरफ बिटी 5370 करोड़ अनुपूरक बजट पेश कन अलावा छै विधेयक भी प्रस्तुत करे जाल। विपक्ष न कोरोना से लड़ै मसला पर काम रोको प्रस्ताव लाव बात ब्वाल। येक अलावा जिलौं क गठन समेत होर मसलौं पर विपक्ष की सरकार तै घिरण की तैयरी च। संसदीय कार्यमंत्री बंशीधर भगत न ब्वाल कि सरकार विपक्ष क हर सवाल जबाब सदन मा तथ्यौं व तर्को साथ देली। ये बाबत हमरी पूरी तैयरी च।
मानसून सत्र पैल दिन दिवंगत नेता प्रतिपक्ष डॉ इिंदरा हृदयेश, उत्तर प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह पूर्व केन्द्रीय मंत्री बची सिंह रावत समेत सात पूर्व विधायकौं ते श्रद्धाजंलि दीये ग्यायी। नतीजन पैल दिन शांतिपूर्ण गुजरी, लेकिन मंगलवान बिटी सत्र क हंगामेदार हूण आसार छन। ये बीच सोमवार ब्यखन बगत विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति क बैठक मा मंगलवार कुणी बिजनेस तय करे ग्यायी। मंगलवार कुणी प्रश्न काल व शून्यकाल त चलल ही ये दगड़ी 2021-22 कुणी अनुपूरक बजट दगड़ी विधेयक भी सरकार तरफ बिटी पेश करे जाल। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी चार बजे अनुपूरक बजट पेश करे जाल।
उने विपक्ष न सरकार तै सदन मा घिरण की रणनीति बणयी। नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह न ब्वाल कि कोरोना से लड़ै लड़न मा सरकार पूर असफल रायी। ये मसला पर मंगलवार कुणी काम रोको प्रस्ताव लये जाल। उन बतै कि राज्य मा जिलौं गठन, नंदा देवी गौरा योजना लाभार्थियूं तै लाभ नी मिलण जाति प्रमाण पत्र निर्गत कन मा जन सामान्य समणी आण व्हाळी परेशनी धारचुला क्षेत्र मा नेटवर्किग समस्या जणी विषयौं पर नियम -58 तहत लये जाल।

मंगलवार कुणी यी विधेयक व्हाल पेश

आइएमएस यूनिसन विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक।

डीआइटी विश्वविद्यालय(संशोधन) विधेयक।

उत्तराखंड माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक।

हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक।

उत्तराखंड फल पौधशाला (विनियमन) विधेयक।

उत्तराखंड नगर निकायों अर प्राधिकरणों कुणी विशेष प्रविधान (संशोधन) विधेयक।

उत्तराखंड विनियोग (2021-22 का अनुपूरक) विधेयक।

Amit Amoli

Leave a Reply

Your email address will not be published.