गवर्नमेंट पीजी कॉलेज रायपुर के जंतु विज्ञान विभाग में प्लास्टिक कूड़ा प्रबंधन पर व्याख्यान श्रृंखला

गवर्नमेंट पीजी कॉलेज रायपुर के जंतु विज्ञान विभाग में प्लास्टिक कूड़ा प्रबंधन पर व्याख्यान श्रृंखला
Spread the love

देहरादून। गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, मालदेवता, रायपुर, देहरादून के जंतु विज्ञान विभाग के साइंस फॉर ऑल-ऑल फॉर साइंस लेक्चर सीरीज के तहत स्वच्छ सर्वेक्षण 2022, प्लास्टिक चुनौतियां और प्रबंधन पर एक दिवसीय व्याख्यान श्रृंखला का आयोजन किया गया।

एसडीसी फाउंडेशन और 108 एम्बुलेंस के मुख्य संस्थापक अनूप नौटियाल इस कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे। इस मौके पर नौटियाल ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण और प्लास्टिक कचरा प्रबंधन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

उन्होंने कहा कि आज मध्य-प्रदेश का एक शहर इंदौर अच्छी तरह से जाना जाता है क्योंकि यह भारत के 4800 शहरों में सर्वश्रेष्ठ कचरा प्रबंधन के साथ स्वच्छ शहरों के मामले में नंबर एक स्थान पर है। उन्होंने कहा कि इंदौर ने ये स्थान दो प्रमुख बिंदुओं के साथ हासिल किया है – एक “कचरे का पृथक्करण“ और दूसरा “उपयुक्त अपशिष्ट निपटारण“।

उन्होंने कुछ चौंका देने वाले आंकड़े दिए जैसे हर गुजरते मिनट में, लगभग 2.5 करोड़ कचरा महासागरों में फेंक दिया जाता है, हर 25 मिनट में – दुनिया भर में प्लास्टिक की पानी की बोतलो का कचरे का एक बड़ा ट्रक लोड उत्पन्न होता है, और यहां तक कि देहरादून में भी – लगभग 10 – 12 लाख की आबादी के साथ हम लगभग 4 लाख किलोग्राम कचरा हर दिन उत्पन्न करते है।

मनुष्य के रूप में हर हफ्ते 5 ग्राम प्लास्टिक खाते हैं जो मनुष्यों सहित जीवित जीवों के शरीर में माइक्रो-प्लास्टिक के रूप में जाता है और अंत में – प्लास्टिक से छद्म-हार्मोन (Ûमदवइपवजपबे) होते हैं जो मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। उन्होंने कहा कि 2019 में देहरादून का स्थान लगभग 300 से सुधर कर 2021 में 82 तक पहुँच गया है।

उन्होंने देहरादून के नगर निगम की भूमिका की सराहना की और आश्वासन दिया कि यदि नागरिक जागरूकता पैदा की जाती है, तो इस रैंकिंग में और सुधार हो सकता है।

कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. सतपाल सिंह साहनी ने कहा कि कचरा प्रबंधन एक गंभीर मुद्दा है और जिस मालदेवता क्षेत्र में कॉलेज स्थित है, उस क्षेत्र में कूड़े के ढेर दिखने लगे हैं जो कि पहले की तुलना में काफी भिन्न स्थिति हैं. उन्होंने कहा कि कई परियोजनाओं में कई करोड़ रुपये का बजट आवंटन है लेकिन नीति स्तर पर भी कचरा प्रबंधन पर श्रृंखलाबद्ध विचार किया जाना चाहिए।

कार्यक्रम की संयोजिका डॉ. मधु थपलियाल, एसोसिएट प्रोफेसर और प्रमुख, जंतु विज्ञान विभाग, ने कहा कि देहरादून के प्रत्येक मोहल्ले में प्लास्टिक कचरा बैंकों के बारे में अधिक जानकारी का प्रसार किया जाना चाहिए। उन्होंने कचरे को अलग करने वाली इकाइयों के साथ बड़े कंटेनर के इस्तेमाल का भी सुझाव दिया।

इन कंटेनरों को ट्रॉलर के रूप में ट्रकों से जोड़ा जा सकता है जिससे कचरा प्रबंधन और प्रभावी हो सकता है । उन्होंने कहा कि यदि सभी मोहल्ले प्रभावी ढंग से कचरा एकत्र करते हैं तो प्रत्येक इलाके को एक वित्त पोषण पुरस्कार मिलना चहिये जिससे कचरा प्रबंधन में सार्वजनिक भागीदारी बढ़ेगी।

चर्चा सत्र के दौरान, छात्रों ने प्लास्टिक के विकल्प, एकल प्लास्टिक के उपयोग को कम करने के लिए पारंपरिक ज्ञान के उपयोग, एकल उपयोग प्लास्टिक को बदलने के लिए विवाह समारोहों में पौधों की पत्तियों या पौधों पर आधारित उत्पादों के उपयोग में वृद्धि, कचरे से पैसे कैसे कमा सकते हैं?, जैसे दिलचस्प सवाल उठाए।

अन्य प्रतिभागियों में डॉ. एमएस पंवार, डॉ. अनीता चौहान, डॉ. रेखा चमोली, डॉ. शशि बाला, डॉ. आशा, डॉ. प्रत्यूषा, शशांक, पवित्रा, दीपक, शुभम, हिमानी, आकृति, शाक्षी, पवित्रा, रेखा, दीपक, सचिन, आनंद आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम यूट्यूब पर लाइव था।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.