गवर्नमेंट पीजी कॉलेज कर्णप्रयाग के प्राध्यापक डा. अंथवाल ने हासिल की खास उपलब्धि

गवर्नमेंट पीजी कॉलेज कर्णप्रयाग के प्राध्यापक डा. अंथवाल ने हासिल की खास उपलब्धि
Spread the love

कर्णप्रयाग। गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, कर्णप्रयाग के इतिहास के प्राध्यापक डा. वीआर अंथवाल की पुस्तक औखाण को एशिया बुक/इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज किया गया है।

गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, कर्णप्रयाग में इतिहास विभाग मे कार्यरत प्राध्यापक डा. वीआर अंथवाल द्वारा लिखित पुस्तक उत्तराखंड की समृद्ध परम्परा “औखाण “ को “एशिया बुक ऑफ रिकार्ड “ तथा इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड में स्थान मिला है।

इस उपलब्धि पर कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ जगदीश प्रसाद एवं प्राध्यापक डॉ एमएस कण्डारी, डॉ. आरसी भट्ट, डॉ इन्द्रेश पाण्डेय, डॉ रूपेश कुमार श्रीवास्तव, डॉ नेतराम, डॉ हरीश चन्द्र रतूडी,डॉ रविन्द्र कुमार, डॉ कीर्तिराम डगवाल डॉ राधा रावत, डॉ कविता पाठक, डॉ डी एस राणा,डॉ ए एस रावत, डॉ चन्द्रावती टमटा, डॉ स्वाति सुन्दरियाल, डॉ पूनम, डॉ चन्द्रमोहन जस्वाण, डॉ रवीन्द्र नेगी ,  एस एल मुनियाल, जगदीश रावत सहित समस्त प्राध्यापक कर्मचारीयो एंव छात्र छात्राओ ने हर्ष व्यक्त किया।
डॉ अंथवाल मूल रूप से ग्राम अंथवाल गांव टिहरी गढवाल के मूल निवासी है।डॉ अंथवाल द्वारा सैकड़ो शोध पत्र पुस्तक का प्रकाशन किया है।महाविद्यालय की पत्रिका “कर्णप्रिया“के भी वे प्रधान सम्पादक हैं। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य ने कहा कि डॉ अंन्थवाल द्वारा लिखित पुस्तक के एशिया बुक एंव इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड मे दर्ज होने पूरा महाविद्यालय परिवार गौरवान्वित हुआ है। उनके द्वारा लिखित पुस्तक से नयी पीढी को अपने समृद्ध शाली परम्पराओ की महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.