वनस्पति विज्ञान विभाग : यहां आकार ले रहे बड़े सपने

वनस्पति विज्ञान विभाग : यहां आकार ले रहे बड़े सपने
Spread the love

श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय का ऋषिकेश परिसर आकार ले रहा है। विश्वविद्यालय की बेहतरी के लिए टीम यूनिवर्सिटी पूरी तरह से तैयार है। विभिन्न विभागों में नियुक्त प्राध्यापकों में कुछ खास करने का जज्बा साफ दिखता है।
हिन्दी न्यूज पोर्टल www.tirthchetna.com विश्वविद्यालय की बेहतरी को टीम यूनिवर्सिटी के प्रयासों में साथ है। पोर्टल विभिन्न विभागों की तैयारी, चुनौती और लक्ष्य को लेकर प्राध्यापकों से बातचीत का अभियान चला रहा है।

ऋषिकेश। विज्ञान संकाय के प्रमुख विषयों में शामिल वनस्पति विज्ञान विभाग की टीम बॉटनी विश्वविद्यालय के शैक्षणिक माहौल को धरातलीय आकार देने में खास भूमिका निभाने को तैयार है।

सोमवार को हिन्दी न्यूज पोर्टल www.tirthchetna.com ने श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के बॉटनी विभाग को नॉक किया। विभागाध्यक्ष/डीन साइंस प्रो. जीके धींगड़ा के नेतृत्व में यहां बड़े सपने आकार ले रहे हैं। विभागाध्यक्ष समेत सात प्राध्यापकों के स्तर से इसकी पुख्ता तैयारी है। 

सात प्राध्यापकों की टीम में प्रो. विद्याधर पांडे, डा. एनके शर्मा, डा. इंदु तिवाड़ी, डा. एसके कुड़ियाल, डा. शालिनी रावत और डा. प्रीति खंडूड़ी हर प्राध्यापक पूरी तरह से मोर्चा संभालने को तैयार हैं। प्रो. पांडे के पास शोध, अध्यापन के साथ ही प्रशासनिक अनुभव भी है। टीम बॉटनी हर मोर्चे पर संतुलित है।  इसका लाभ विश्वविद्यालय को आगे बढ़ाने में मिलने वाला है। टीम बॉटनी के हर प्राध्यापक के पास बेहतरी का प्लान है। इसको धरातल पर उतारने की कवायद भी शुरू हो चुकी हैं।

शिक्षण के मूल कार्य के अलावा टीम बॉटनी कुछ हटकर करने को उत्साहित है। विभागाध्यक्ष/डीन साइंस प्रो. जीके धींगड़ा विस्तार से बताते हैं। बॉटनी पढ़ने वाले छात्र/छात्राएं देश के प्रमुख संस्थाओं की विशेषता और ज्ञान से रूबरू हों इसके लिए एमओयू किए जा रहे हैं।

मशरूम कल्चर एंड प्रोसेसिंग में सर्टिफिकेट/डिप्लोमा की तैयारी पूरी कर ली गई है। हां, गवर्नमेंट की व्यवस्था से यूनिवर्सिटी की व्यवस्था के बीच का संक्रमण काल यहां भी दिख रहा है। उपलब्ध संसाधन बड़े सपनों को धरातल पर उतारने में थोड़ा विलंब करा सकते हैं। बावजूद इसके टीम बॉटनी का हौसला देखते ही बनता है।

 

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.