जम्मू-कश्मीर: किश्तवाड़ से हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकी गिरफ्तार, बड़ी संख्या में हथियार बरामद

Spread the love

किश्तवाड़ जिले के छात्रू उपमंडल से हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकी गिरफ्तार किए गए हैं। इसके साथ ही उनके कब्जे से भारी मात्रा में गोला बारूद भी बरामद करने में सुरक्षाबलों ने कामयाबी पाई है। पकड़े गए आतंकियों की पहचान अश्फाक क्यूम टाक निवासी पासरकोट और तौसीफ गीरी निवासी पूछाल के रूप में हुई है। उनके अनंतनाग में सक्रिय आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के साथ संपर्क के बारे में छात्रू थाना में 24 अगस्त को मामला दर्ज किया गया था।

जानकारी के बाद किश्तवाड़ पुलिस, सेना  और सीआरपीएफ द्वारा विशेष सूचना पर 25 अगस्त रात नायद गाम छात्रू के वन क्षेत्र में संयुक्त तलाशी अभियान चलाया गया और दोनों आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया गया और पूछताछ के बाद उन्होंने खुलासा किया कि उन्होंने छात्रू के पिंगनाल नामक वन क्षेत्र में कुछ हथियार और गोला बारूद रखा है।

उनसे प्राप्त जानकारी पर आतंकी ठिकाना ध्वस्त किया गया और  वहां से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए। जिसमें एक पिस्तौल, पिस्तौल की मेग्जीन, 20 पिस्तौल के राऊंद ,एक ग्रेनेड, एके47 की एक मेग्जीन(खाली), दो वायरलेस सेट, दो वायरलेस एंटेना और एचएम संगठन विभाग डोडा का लेटर पैड के तीन शीट बरामद किए।  मामले की आगे की जांच जारी है। आने वाले दिनों में और गिरफ्तारियां होने की उम्मीद है।

गौरतलब है कि दो सप्ताह पूर्व भी दो बार में तीन आंतकी गिरफ्तार किए गए थे उनके पास से भी काफी सामान बरामद किया गया था। जिले में इस तरह से आतंकवाद को और बढ़ावा मिलना कोई अच्छे संकेत नहीं हैं। हालांकि सुरक्षाबल काफी सतर्क भी हैं, परंतु पिछले तीन दशक से लगातार कई घटनाएं हुई, जिस पर अंकुश लगाना बहुत ही कठिन हो रहा है।  मोहमद अमीन सरूड़ी उर्फ जहांगीर सरूड़ी पिछले तीन दर्शक से सक्रिय हैं और सुरक्षाबलों को कोई सफलता नहीं मिल रही है।

हाल ही में सरकार ने तीन आतंकियों के  लिए 30 लाख रुपये का ईनाम भी घोषित किया है और शहर में पोस्टर लगाए गए हैं कि जो भी उसके बारे में सूचित करेगा या ढूढेंगा उसे 30 लाख रुपये की राशि ईनाम में दी जाएगी और उसका नाम गुप्त भी रखा जाएगा। उसके साथ दो और रियाज अहमद और मुद्दसिर का नाम भी जोड़ा गया है। सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि आतंकी सरूड़ी नई भर्तियां संगठन को और सक्रिय करने के लिए कर रहा है। दो सप्ताह में 5 आतंकियों को गिरफतार करना सुरक्षाबलों के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है।

Amit Amoli

Leave a Reply

Your email address will not be published.