न्यूज पोर्टल पर विश्वविद्यालय की छवि धूमिल करने का आरोप

न्यूज पोर्टल पर विश्वविद्यालय की छवि धूमिल करने का आरोप

- in टिहरी
0

चंबा। श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डा. पीपी ध्यानी ने एक न्यूज पोर्टल पर विश्वविद्यालय और उनकी छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए कानूनी कार्रवाई करने का ऐलान किया है।

मीडिया को जारी लिखित बयान में कुलपति डा. ध्यानी ने एक न्यूज पोर्टल द्वारा प्रकाशित खबरों के बारे में विस्तार से बताया। कहा कि तीन दिन पूर्व पोर्टल ने खबर प्रकाशित की कि अम्ब्रेला एक्ट का विरोध करवा रहे दून और टिहरी के कुलपति की कुर्सी पर गाज गिरना तय।

27 सितम्बर 2020 को इसी न्यूज पोर्टल में खबर प्रकाशित की गई कि ‘‘अम्ब्रेला एक्ट का विरोध करवा रहे वीसी शिकंजे में। उन्होंने उक्त दोनों समाचारों का पुरजोर खंडन किया। उन्होंने पोर्टल की दोनों खबरों को झूठी, मनगढन्त, भ्रामक एवं तथ्यहीन बताया। उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर प्रचारित-प्रसारित की जा रही हैं।

खबर में आरोप लगाया गया है कि सरकार और उच्च शिक्षा मंत्रालय को बदनाम करने की मंशा से दो कुलपतियों द्वारा यह खेल खेला गया। गौरतलब बात तो यह है कि विश्वविद्यालय के कुलपति पद पर सुयोग्य व्यक्ति सरकार द्वारा चयनित किये जाते हैं। ऐसी स्थिति में कैसे कोई कुलपति अपने मंत्रालय एवं सरकार के विरूद्ध षडयंत्र कर सकता है।

खबर में उल्लेख किया गया है कि अम्ब्रेला एक्ट के विरोध में पटकथा 15.09.2020 को लिखी गयी, जिसके लिए दो कुलपतियों पर सवाल उठाये गये हैं, उसी खबर में उल्लेख है कि एक कुलपति 16.09.2020 को रानीचौरी स्थित आवास में पहुंचे। जब पटकथा 15 तारीख को लिखी गयी तो 16 तारीख को जो कुलपति रानीचौंरी पहुंचे उन्होंने क्या किया ? एक्ट के विरोध में मोटी रकम खर्च किये जाने की भी बात कही गयी है, लेकिन इसका उल्लेख नहीं किया गया कि रकम कहां खर्च की गयी ? जिन पर मोटी धनराशि खर्च की गयी, वे कौन हैं ? और एक्ट के विरोध के लिए क्या करेंगे।

15.09.2020 को जिससे फोन पर वार्ता हुयी वह व्यक्ति कौन है और हरिद्वार जनपद के किस शिक्षण संस्थान के स्वामी से वार्ता हुयी इसका भी कोई उल्लेख नही किया गया। इन खबरों में टिहरी में स्थापित एक विश्वविद्यालय के कुलपति का जिक्र किया गया है, चूंकि कि टिहरी गढ़वाल में अन्य कोई भी विश्वविद्यालय स्थापित/अवस्थित नहीं है, जिससे पूर्णतया यह स्पष्ट हो रहा है कि सम्बन्धित पोर्टल में छपी खबर का स्पष्ट इशारा श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय एवं इसके कुलपति के विरूद्ध है।

पोर्टल द्वारा श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय एवं इसके कुलपति की छवि को धूमिल करने का प्रयास प्रतीत होता है। दोहराया कि श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय एवं इसके कुलपति के विरूद्ध न्यूज पोर्टल में छपी खबर पूर्णरूपेण मिथ्याजनक, मनगढन्त, तथ्यहीन, भ्रामक, झूट एवं आपत्तिजनक हैं, जिससे श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय एवं इसके कुलपति की छवि धूमिल हुई है।

उन्होंने कहा कि उनकी और विश्वविद्यालय की छवि धूमिल करने वाले पोर्टल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेः कुलपति डा. ध्यानी ने की गवर्नमेंट पीजी कॉलेज कोटद्वार की सराहना

यह भी पढ़ेः परीक्षा केंद्र पर मिली अव्यवस्थाओं पर विफरे कुलपति डा.ध्यानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भाजपा उत्तराखंड से किसे भेजेगी राज्य सभा

देहरादून। भाजपा उत्तराखंड के किस नेता को राज्य