परीक्षा के बारे में श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय का ऐलान, जानिए विस्तार से

परीक्षा के बारे में श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय का ऐलान, जानिए विस्तार से

- in टिहरी
0

चंबा। श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय ने परीक्षा के संबंध में महत्वपूर्ण ऐलान किया है। ऐलान में कोविड-19 की वजह से पैदा हुए विपरीत हालातों में परीक्षा को लेकर खास निर्णय लिया गया है।

मंगलवार को श्रीदेव सुमन उत्तराखण्ड विष्वविद्यालय मुख्यालय में चतुर्थ परीक्षा समिति की आनलाईन बैठक कुलपति डा. पीपी ध्यानी की अध्यक्षता में आयोजित की गयी। समिति द्वारा व्यापक छात्र हित में निर्णय लिया गया कि कोविड-19 महामारी के कारण स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर की विषम सेमेस्टरों की परीक्षा एंव अंकसुधार की परीक्षायें संपन्न न होने के कारण महाविद्यालय/संस्थान स्तर पर एसाइन्मेन्ट के माध्यम से परीक्षा सम्पादित की जायेगी।

मिड सम सेमेस्टर के छात्र/छात्राओं को गत वर्ष की भांति प्रोन्नत अथवा महाविद्यालय/संस्थानों के स्तर पर एसाइन्मेंन्ट के आधार पर परीक्षा सम्पन्न की जायेगी। साथ ही अंकसुधार हेतु जिन छात्र-छात्राओं द्वारा परीक्षा आवेदन किये गये हैं, उनकी परीक्षाऐं भी महाविद्यालय/संस्थान स्तर पर एसाइन्मेन्ट के माध्यम से आयोजित की जायेंगी।

महाविद्यालयों/संस्थानों द्वारा ली गयी परीक्षाओं के अंक विश्वविद्यालय के पोर्टल में आनलाईन प्रेषित की जायेंगी। समिति द्वारा सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया कि वार्षिक पद्धति के प्रथम व अन्तिम वर्ष, स्नातक एवं स्नातकोत्तर की अन्तिम सैमेस्टर तथा व्यावसायिक डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के अन्तिम सैमेस्टर की परीक्षायें माह अगस्त-सितंबर, 2021 में आयोजित की जायेंगी। इसके साथ ही वार्षिक पद्धति के स्नातक द्वितीय वर्ष के छात्र/छात्राओं को उनके प्रथम वर्ष के प्राप्तांकों के आधार पर प्रोन्नत किया जायेगा।

आनलाईन बैठक में एमएस रावत, परीक्षा नियंत्रक, प्रो. आरके गुप्ता, जगदीश प्रसाद, प्रो. डीसी नैनवाल, प्रो. एके तिवारी, डॉ. संदीप विजय,डॉ. संध्या डोगरा,डॉ. सुषमागुप्ता, डॉ. भरत सिंह, डॉ. बीसी शाह, श्रीमती नमिता सिंह, खेमराजभट्ट, डॉ. हेमन्त बिष्ट, डॉ. बीएल आर्य आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रकृति की सत्ता को स्वीकारना होगाः डा. मधु थपलियाल

देहरादून। जलवायु परिवर्तन से तेजी से छीज रही