श्रीदेव सुमन यूनिवर्सिटीः संगीत और गृह विज्ञान परिषद की शैक्षणिक प्रतियोगिताएं संपन्न

श्रीदेव सुमन यूनिवर्सिटीः संगीत और गृह विज्ञान परिषद की शैक्षणिक प्रतियोगिताएं संपन्न
Spread the love

ऋषिकेश। श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के संगीत और गृह विज्ञान परिषद में शैक्षणिक प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। इसमें संबंधित विषयों के छात्र/छात्राओं ने शिरकत की।

इन दिनों श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के ऋषिकेश परिसर में विभागीय परिषदों में शैक्षणिक प्रतियोगिताओं का धूम है। संगीत परिषद में एकल सुगम गायन, एकल तबला बादन, एकल पोस्टर और निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गई।

प्रतियोगिता के बाद विभागध्यक्ष डा. शिखा ममगाईं ने परिणामों की घोषण की। इसमें एकल सुगम गायन में अमन भटट ने प्रथम, अभिनव राजवंशी ने द्वितीय और जगदीश ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। एकल तबला वादन में आकाश ने प्रथम, राघवेंद्र मिश्रा ने द्वितीय और दुर्गा रावत ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

भारतीय संगीत वाद्य विषय पर आयोजित पोस्टर प्रतियोगिता में अंजली ने प्रथम, मीनू ने द्वितीय और रोहित आर्य ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। निबंध प्रतियोगिता में दुर्गा रावत ने प्रथम, निकिता ने द्वितीय और सपना दास ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

डा. पुष्पांजलि आर्य, डा. पूनम पाठक और डा. पारूल मिश्रा प्रतियोगिता में निणार्यक की भूमिका में थी। इस मौके पर संगीत परिषद की अध्यक्ष प्राची, उपाध्यक्ष राघवेंद्र मिश्रा, सचिव रोहित आर्य, कक्षा प्रतिनिधि जगदीश, सपना दास और मीनू मौजूद थे।

गृह विज्ञान परिषद के बैनर तले आयोजित प्रतियोगिताओं के परिणामों की घोषणा विभागध्यक्ष प्रो. प्रीति कुमारी ने की। मेहंदी प्रतियोगिता में अनुराधा ने प्रथम, सपना दास ने द्वितीय और रंजना ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इस प्रतियोगिता में प्रो. संगीता मिश्रा, डा. अरूणा पी. सूत्राधर और डा. पारूल मिश्रा निर्णायक के रूप में मौजूद थी।

रंगोली प्रतियोगिता में पायल, दीक्षा प्रजापति और शिवानी ने क्रमश प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त किया। प्रतियोगिता में प्रो. कंचनलता सिन्हा, प्रो. कल्पना पंत और डा. पूनम पाठक निर्णायक के रूप में मौजूद थी।
सलाद प्रतियोगिता में एकला, चांदनी साहनी और निशा जायसवाल ने प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त किया। प्रतियोगिता में प्रो. हेमलता मिश्रा, डा. पुष्पांजलि आर्य और डा. शिखा ममगाईं बतौर निर्णायक मौजूद थी।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.