सिंगल यूज प्लास्टिक पर बड़ी मुहिम छेड़ेगा गवर्नमेंट पीजी कॉलेज उत्तरकाशी

सिंगल यूज प्लास्टिक पर बड़ी मुहिम छेड़ेगा गवर्नमेंट पीजी कॉलेज उत्तरकाशी
Spread the love

जीवन के अस्तित्व को चुनौती है प्लास्टिकः प्रो. मधु थपलियाल

तीर्थ चेतना न्यूज

उत्तरकाशी। जीवन के अस्तित्व के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक चुनौती है। इस खतरे की घंटे को महसूस करने की जरूरत है। ताकि समय रहते इसके खतरों से बजा जा सकें। गवर्नमेंट पीजी कॉलेज उत्तरकाशी इसके खिलाफ बड़ी मुहिम छेड़ने जा रहा है।

ये कहना है प्रो. मधु थपलियाल का। मौका था गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, उत्तरकाशी में ं सिंगल यूज प्लास्टिक पर एक कार्यशाला का। सिंगल यूज प्लास्टिक समिति की संयोजिका प्रो मधु थपलियाल ने छात्रों को बहुत ही सरल शब्दों में व्यावहारिक तरीके से प्लास्टिक के नुकसान से अवगत करवाया।

उन्होंने कपड़े का झोला, प्लास्टिक की स्ट्रॉ, कान साफ करने वाली बड को दिखा कर सभी को प्लास्टिक को हटाने के लिए छात्रों को प्रेरित किया। इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ रमेश सिंह ने छात्रों को प्लास्टिक उन्मूलन के किए प्रोत्साहित किया।

कार्यक्रम में वनस्पति विज्ञान विभाग की डॉ ऋचा बधानी ने पावर पॉइंट प्रेज़न्टैशन के माध्यम से समझाया कि सिंगल यूज प्लास्टिक में किन किन चीजों को प्रतिबंधित किया गया है तथा हमे इसे रोकने के लिए क्या करना चाहिए। साथ ही बताया कि प्लास्टिक का प्रयोग करने पर सरकार द्वारा किन किन सजाओ का प्रावधान है।

उन्होंने बताया कि प्लास्टिक का उपयोग करने पर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, राज्य प्रदूषण निकायों के साथ प्रतिबंध की निगरानी करेगा, उल्लंघनों की पहचान करेगा और पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 के तहत निर्धारित दंड लगाएगा। वनस्पति विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ महेंद्र पाल सिंह परमार ने पी पी टी के माध्यम से बताया कि प्लास्टिक क्या है और इसके धरती पर क्या दुष्परिणाम पड सकते हैं।

साथ ही छात्रों को एक वीडियो और फिल्म के माध्यम से छात्रों को जागरूक किया। इस अवसर पर छात्र सौरभ ने भी प्लास्टिक उन्मूलन के लिए अपने साथियों को प्रेरित किया और बताया की आज के कार्यक्रम से वह और उसके साथी बहुत ही लाभान्वित हुए हैं।

गृह विज्ञान विभाग की डॉ प्रीति तथा ड्रॉइंग पेंटिंग विभाग की डॉ मधु बहुगुणा ने छात्र छात्रों को अपने घरों से पुराने कपड़े विभाग में जमा करने को कहा। उन्होंने बताया की वे इन पुराने कपड़ों से थैले बनाकर सभी को प्लास्टिक हटा कर कपड़े के थैले बांटेंगे। महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो सविता गैरोला ने कहा कि आज हम सभी को पर्यावरण को बचाने के लिए प्लास्टिक को हटाना है।

साथ ही सभी छात्रों को इस मुहिम में आगे आने के लिए कहा। प्राचार्य ने सिंगल यूज प्लास्टिक समिति की सराहना की और कहा की अब महाविद्यालय उत्तरकाशी निश्चित रूप से सिंगल यूज प्लास्टिक को काम करने में अग्रणी भूमिका निभाएगा। भौतिक विज्ञान विभाग के प्राध्यापक एवं समिति के सदस्य डॉ एम पी एस राणा ने भी सभी प्राध्यापकों एवं छात्रों का आभार व्यक्त किया तथा बताया की प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में प्लास्टिक का प्रयोग कम करना है।इसके पश्चात प्राचार्य प्रो सविता गैरोला ने सभी छात्रों को सिंगल यूज प्लास्टिक को कम करने के लिए शपथ दिलायी।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.