प्रिंसिपल डा. सुनीता शर्मा ने जापान की शिक्षा व्यवस्था के अनुभव साझा किए

प्रिंसिपल डा. सुनीता शर्मा ने जापान की शिक्षा व्यवस्था के अनुभव साझा किए
Spread the love

शैक्षणिक अनुभव एवं शिक्षा अधिगम कार्यक्रम के तहत किया दौरा

तीर्थ चेतना न्यूज

ऋषिकेश। शैक्षणिक अनुभव एवं शिक्षा अधिगम कार्यक्रम के तहत जापान का दौरा करके लौटी निर्मल आश्रम ज्ञान दान अकादमी की प्रिंसिपल डॉ सुनीता शर्मा ने जापानी स्कूली शिक्षा व्यवस्था के अनुभवों को साझा किया।

23 जून से 29 जून 2022 तक डा. सुनीता शर्मा ने जापान के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों का दौरा किया। शिक्षक, छात्र/छात्राओं और सिस्टम से जुड़े अधिकारियों से बातचीत की। वहां उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में जो देखा और सीखा उसके अनुभवों को उन्होंने यहां साझा किया।

उन्होंने बताया कि जापान को विकसित करने में वहां की शिक्षा प्रणाली का बहुत बड़ा योगदान है वहां की शिक्षा दर 100 प्रतिशत है और यही कारण है कि आज जापान एक विकासशील के साथ विकसित देश है। वहां की शिक्षा प्रणाली में कुछ मुख्य बिंदु बहुत ही कारगर हैं।

जापान में प्राथमिक शिक्षा में नो होमवर्क का होना, समय से और रोज स्कूल जाना, लंच सब साथ बैठ कर खाते हैं जिसमें अध्यापक भी उनके साथ शामिल होते हैं, स्कूलों में साफ-सफाई का पूरा जिम्मा बच्चों के ऊपर होना, जापानी सभ्यता में सभी को अभिवादन करके अपनी भाषा के स्तंभ को मजबूत करना, बच्चों की गलती पर उन्हें कक्षा से बाहर नहीं निकालना बल्कि उनकी गलतियों को सुधारने का प्रयास करना, कक्षा में अपनी मर्जी से अपने विषयों को चुनने की आजादी।

डॉ सुनीता शर्मा ने बताया कि उनका अनुशासन सत्यनिष्ठता एवं आत्मनिर्भरता जो बच्चों को प्रारंभिक शिक्षा के दौर में ही सिखा दिया जाता है हमें भी अपने विद्यालय में इन बिंदुओं पर विशेष ध्यान देना चाहिए जिससे कि विद्यार्थी पूर्ण रूप से अनुशासित एवं आत्मनिर्भर बन सके।

निर्मल आश्रम महंत राम सिंह महाराज जी एवं संत जोध सिंह महाराज जी ने जापान से लोटने पर हर्ष व्यक्त करते हुए प्रधानाचार्य को आशीर्वाद देकर बधाई दी और कहा कि आप का यह दौरा हमारे विद्यालयों एवं विद्यार्थियों हेतु जरूर कारगर साबित होंगे ।

समय-समय पर इस तरह के शैक्षणिक अनुभव एवं शिक्षा अधिगम कार्यक्रम होने चाहिए जिससे स्कूल प्रधानाचार्य एवं शिक्षकों को नए-नए तौर तरीकों को सिखने का मौका मिलता रहे । इस अवसर पर एनजीए हेडमिस्ट्रेस श्रीमती अमृतपाल डंग, प्रशासनिक अधिकारी विनोद बिजल्वाण, समन्वयक सोहन सिंह कैंतूरा, परीक्षा प्रभारी सरबजीत कौर, खेल शिक्षक दिनेश पैन्यूली एवं पूनम चौहान, जितेंद्र कुमार, मोनिका कपूर, अनिता ग्वाडीं, ममता पवार, सुनीता नेगी, ज्योति वर्मा, सारिका अरोड़ा, मंजू सकलानी, योगिता राजपूत, सुनीता आहूजा, विजेता, रत्ना नेगी, ज्योति पंवार उपस्थित थे।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.