ऋषिकेश पीजी कॉलेजः हम तुझे कभी भुला न पाएंगे

ऋषिकेश पीजी कॉलेजः हम तुझे कभी भुला न पाएंगे

- in ऋषिकेश
0

ऋषिकेश। गवर्नमेंट पीजी कॉलेज के सेवानिवृत्त प्रोफेसरों ने ऑनलाइन सम्मान समारोह में यादें ताजा की। कहा कि वो ऋषिकेश पीजी कॉलेज को कभी नहीं भूला पाएंगे।

बुधवार को आयोजित ऑनलाइन सम्मान समारोह में कॉलेज बड़ी संख्या में सेवानिवृत्त प्रोफेसरों ने शिरकत की। इस मौके पर कॉलेज प्रशासन ने उक्त सभी के संस्था के विकास में योगदान हेतु अभार किया। इस मौके पर प्रोफेसर सविता मोहन ने कॉलेज से जुड़ी तमाम यादें साझा की।

प्रोफेसर एसएन भट्ट ने बताया छात्रावास के निर्माण के समय जो परेशानियां हैं उसमें पूरे महाविद्यालय ने उनका सहयोग किया जिससे आज छात्रावास भली प्रकार संचालित हो रहा है। प्रोफेसर जी सी मिश्रा ने बताया की छात्रों के उज्जवल भविष्य के लिए समर्पण की भावना से कार्य करना है शिक्षक का उत्तरदायित्व है।

पूर्व निदेशक प्रोफेसर एमपी महेश्वरी ने बताया कि किस प्रकार उनके कार्यकाल में ऋषिकेश की जनता विभिन्न सामाजिक संगठनों ने चढ़कर सहयोग किया तथा छात्र-छात्राओं ने भी सामाजिक एवं शैक्षणिक गतिविधियों में प्रतिभाग किया।

पूर्व निदेशक डॉ अशोक कुमार जीने महाविद्यालय की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया तथा प्रोफेसर विजय लक्ष्मी ने पुराने दिनों को याद करते हुए बताया कि किस प्रकार सीमित संसाधनों में महाविद्यालय के लिए कार्य किया गया ।

कार्यक्रम में प्रोफेसर संतोष पाठक ने बताया कि उनका अधिकतर समय राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश में बीता इसलिए उनके लिए यह में महाविद्यालय उनके जीवन का एक हिस्सा है। पूर्व निदेशक प्रोफ़ेसर एमसी त्रिवेदी ने बताया कि किस प्रकार डिसिप्लिन के लिए उन्होंने संघर्ष किया तथा छात्र हितों के लिए संसाधनों को जुटाने का प्रयास किया।

प्रो. जीएस रजवार ने ने कॉलेज के पहले नैक निरीक्षण और ऑटोनोमस का दर्जा पाने के लिए किए गए प्रयासों पर प्रकाश डाला। कॉलेज की प्रिंसिपल र् प्रोफेसर सुधा भारद्वाज ने सभी सम्मानित अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. पूजा कुकरेती ने किया तथा संयोजन डॉ मुक्तिनाथ यादव जी ने किया।

उक्त कार्यक्रम में डा. दयाधर दीक्षित डॉ. सत्येंद्र कुमार डॉ. हितेंद्र कुमार डॉ विभा कुमार डॉ. गुलशन कुमार ढींगरा डॉ. अनिल कुमार डॉ शरद त्रिपाठी डॉ. देव मणि त्रिपाठी सहित अनेक प्राध्यापकों ने प्रतिभाग किया।

यह भी पढ़ेः शिक्षिका की कोरोना से मौत

यह भी पढ़ेः प्राध्यापकों ने ली अगस्त्यमुनि कॉलेज की सूरत बदलने की प्रतिज्ञा

यह भी पढ़ेः गवर्नमेंट पीजी कॉलेज नई टिहरी में नई शिक्षा नीति-2020 पर गोष्ठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोरोना मीटरःउत्तराखंड में 24 घंटे में 493 पॉजिटिव, 1413 हुए ठीक

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे में कोरोना