क्षेत्र की उपेक्षा से आहत हैं थानों मालकोट के ग्रामीण,विरोध में 25 को देंगे धरना

क्षेत्र की उपेक्षा से आहत हैं थानों मालकोट के ग्रामीण,विरोध में 25 को देंगे धरना

- in ऋषिकेश
0

रानीपोखरी। विकास के हर मोर्चे पर क्षेत्र की उपेक्षा से नाराज ग्रामीणों ने अब आंदोलन की राह अपनाने का निर्णय लिया है। ग्रामीण 25 जुलाई को ग्राम सुधार महिला एवं पुरूष विकास समिति, थानों मालकोट के बैनर तले धरना देंगे।

राजधानी देहरादून के सबसे पास वाले थानों क्षेत्र का अपेक्षित विकास नहीं हो सका है। इसको लेकर क्षेत्र के लोगों में खासी नाराजगी है। ग्राम सुधार महिला एवं पुरुष विकास समिति, थानों मालकोट की अध्यक्ष मुन्नी बहुगुणा की अध्यक्षता में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र थानों के उच्चीकरण के संदर्भ में एक बैठक आहुत की गयी।

उक्त मांग ग्रामीण लंबे समय से कर रहे हैं। इसमें हॉस्पिटल में 24 घंटे आपात चिकित्सा,24 घंटे डॉक्टर की सुविधा,गर्भवती महिलाओँ के लिये उल्ट्रासाउंड,ड़ॉप्प्लर, बेसिक जांचे,ब्लड,सुगर ,मल-मूत्र,के साथ साथ कम से कम 10 बैड की सुविधा की माँग लम्बे समय से की जा रही है। मगर, अभी तक सरकार ने इस पर गौर नहीं किया।

नाराज ग्रामीणों ने बैठक में निर्णय लिया कि क्षेत्र की अनदेखी के खिलाफ 25 जुलाई को थानों चौक, मिलन केन्द्र एअरपोर्ट रोड़ पर एक दिवसीय सांकेतिक धरना दिया जायेगा। इस पर भी सरकार ने गौर नहीं किया तो ग्रामीण आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

बैठक में जोर देते हुए कहा गया कि थानों न्याय पंचायत का 80 प्रतिशत हिस्सा पर्वतीय होने के कारण एवं बरसात में गर्भवती महिलाओँ को बहुत ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इस अस्पताल के उच्चीकरण होने से लगभग पूरे मालकोट और गडुल क्षेत्र की 80000-85000 आबादी को फायदा होगा।

बैठक में मुन्नी बहुगुणा अध्यक्षा,सतेन्द्र मोहन बहुगुणा उपाध्यक्ष,बिरेन्द्र कृषाली संरक्षक,पदम सिंह पँवार वरिष्ठ उपाध्यक्ष,जयपाल सिंह नेगी लेखा निरीक्षक,राम लाल बड़ोनी संयोजक,रविन्द्र सिंधवाल,समाजिक कार्यकर्ता महीपाल सिंह,धर्म सिंह कृषाली,तेजपाल सिंह मनवाल,रुचि कोठारी ,सुरसरी बहुगुणा,अर्चना थपलियाल,शैला बहुगुणा,गीता देवी,सीमा सिन्धवाल,देवेश्वरी देवी,इन्दु देवी आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रकृति की सत्ता को स्वीकारना होगाः डा. मधु थपलियाल

देहरादून। जलवायु परिवर्तन से तेजी से छीज रही