Saturday, November 27, 2021
Home उत्तराखंड शीघ्र समाधान जरूरी

शीघ्र समाधान जरूरी

केंद्र सरकार के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले नौ माह से आंदोलन कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने अब 27 सितंबर को ‘भारत बंद का ऐलान किया है।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में महापंचायत में यह भी फैसला लिया गया कि अब देशभर में धरने-प्रदर्शनों का दौर शुरू किया जाएगा। आंदोलनरत किसानों ने अपने मंच पर बेशक किसी भी राजनीतिक दल के नेता को स्थान नहीं दिया, लेकिन इस आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस, सपा, बसपा और रालोद सहित तमाम विपक्षी पार्टियां खुलकर सामने आयी हैं। किसान नेताओं ने जहां आंदोलन को व्यापक जनसमर्थन मिलने का दावा किया है, वहीं सत्ताधारी दल ने इसे सियासी जमावड़ा बताते हुए कहा है कि आंदोलनकारी किसान नहीं, राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता हैं। हालांकि भाजपा सांसद वरुण गांधी ने आंदोलनरत किसानों को ‘अपना ही भाई-बंधु’ बताते हुए एक ट्वीट के जरिये सरकार से अपील की है कि दोबारा बातचीत शुरू की जानी चाहिए ताकि सर्वमान्य हल तक पहुंचा जा सके। असल में तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर पिछले नौ महीने से दिल्ली बॉर्डर पर किसान डेरा डाले हुए हैं।

किसान उन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं, जिनसे उन्हें डर है कि ये कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) व्यवस्था को खत्म कर देंगे तथा उन्हें बड़े कारोबारी समूहों की दया पर छोड़ देंगे। सरकार इन कानूनों को प्रमुख कृषि सुधार और किसानों के हित में बता रही है। इन तीन कृषि कानूनों में पहला है, ‘कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण)। इसके तहत सरकार का कहना है कि वह उपज बेचने के विकल्पों को बढ़ाना चाहती है। किसान इस कानून के जरिये मंडियों के बाहर भी अपनी उपज उचित दामों पर बेच पाएंगे। कानून के विरोध में कहा जा रहा है कि बड़े कॉरपोरेट खरीदारों को खुली छूट दी गयी है। यही छूट मंडियों की प्रासंगिकता को समाप्त कर देगी। दूसरा कानून है, ‘कृषि (सशक्तीकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार विधेयक। इसको लेकर सरकार का दावा है कि वह किसानों और निजी कंपनियों के बीच समझौता खेती यानी ‘कान्ट्रेक्ट फार्मिंग का रास्ता खोल रही है। आंदोलन के पक्ष में बात करने वालों का दावा है कि इससे तो किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बनकर रह जाएगा।

तीसरा कानून है, ‘आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक। इसके तहत कृषि उपज जुटाने की सीमा नहीं रहेगी। सरकार का कहना है कि किसानों को ‘ऑन द स्पॉट सारी राशि मिल जाएगी और उपज भी बिक जाएगी। इसके विरोध में तर्क दिया जा रहा है कि इससे जमाखोरी और कालाबाजारी बढ़ेगी। इन कानूनों के विरोध के अलावा किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) जारी रखे जाने की कानूनी गारंटी भी चाहते हैं। हालांकि सरकार लिखित गारंटी देने के पक्ष में है। नये कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसान संगठनों के बीच 10 दौर से अधिक की बातचीत हो चुकी है, लेकिन गतिरोध खत्म नहीं हुआ। केंद्र सरकार ने प्रदर्शनकारी किसान संगठनों से कहा है कि वह कानूनों में संशोधन के साथ ही अन्य मुद्दों पर भी बातचीत के लिए तैयार है, लेकिन आंदोलनरत किसानों की पहली शर्त कृषि कानूनों की वापसी है। उनका कहना है कि किसानों के अनेक मुद्दे हैं, सभी पर बातचीत होगी, लेकिन सबसे पहले सरकार तीन कानूनों को रद्द करे। दोनों ओर से जारी अडिय़ल रुख के कारण पहले भी बातचीत बेनतीजा रही और स्थिति कमोबेश अभी भी वैसी ही है।

दिल्ली की सीमाएं बंद हैं और कोरोना काल में अलग-अलग मौसम चक्र में किसान धरने पर बैठे हैं। इसका लंबा खिंचना दुखदायी है। इस वक्त बेहद जरूरी है कि दोनों ओर से थोड़ा-थोड़ा लचीला रुख अपनाया जाए और बातचीत के जरिये समाधान ढूंढऩे की ओर बढ़ा जाए।

RELATED ARTICLES

रवि सैनी ऋषिकेश के नए कोतवाल

ऋषिकेश। रवि सैनी ऋषिकेश के नए कोतवाल होंगे। इसके अलावा छह अन्य पुलिस इंस्पेक्टर को इधर-उधर किया गया है। सभी के आज-कल में नई...

पूर्व फौजी ने पत्नी समेत स्वयं को गोली से उड़ाया, क्षेत्र में सनसनी

ऋषिकेश। रानीपोखरी थाना अंतर्गत रखवाल गांव में एक पूर्व फौजी ने पत्नी समेत स्वयं को गोली से उड़ा दिया है। घटना से क्षेत्र में...

राज्य की खेल नीति पर कैबिनेट ने लगाई मुहर

देहरादून। राज्य की खेल नीति पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी। इसके अलावा 20 अन्य प्रस्तावों को भी राज्य कैबिनेट ने हरी झंडी दे...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हरीश रावत की कद्दू छुरी और नासमझ उडयारी पहाड़ी किशोर उपाध्याय

ऋषिकेश। कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के कद्दू छुरी वाले बयान पर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्यक्ष ने स्वयं...

सड़कों की खोदा-खादी हो रही है तो समझो चुनाव आ गया

ऋषिकेश। चुनावी साल में विकास को दिखाने के लिए सड़कों की खोदा-खादी और बनाने का उपक्रम तेजी से हो रहा है तो समझो चुनाव...

गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज पावकी देवी में संविधान दिवस पर कार्यक्रम

ऋषिकेश। गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज, पावकी देवी में सविधान दिवस पर आयोजित शैक्षणिक कार्यक्रमों में छात्र/छात्राओं ने बढ़ चढ़कर शिरकत की। इस मौके पर छात्र/छात्राओं...

सेमनागराज त्रिवार्षिक मेला एवं जात में शामिल हुए मुख्यमंत्री

नई टिहरी। विकास की जो घोषणाएं हो रही हैं उन्हें हर हाल में धरातल पर उतारा जाएगा। सरकार का फोकस आम लोगों की बेहतरी...

संविधान दिवस पर गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज पाबौ में कार्यक्रम

पौड़ी। गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज, पाबौ में संविधान दिवस पर नेहरू युवा कल्याण केंद्र के बैनर तले भाषण तथा निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।...

श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय की बीएड प्रवेश परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न

ऋषिकेश। श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय की बीएड परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हो गई। परीक्षा के लिए पंजिकृत 6570 में से 5392 छात्र/छात्राएं परीक्षा देने के...

गढ़वाल विवि के दीक्षांत समारोह में शिरकत करेंगे केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

श्रीनगर। एक दिसंबर को प्रस्तावित हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के नौवें दीक्षांत समारोह में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान बतौर मुख्य अतिथि...

मुनिकीरेती में कांग्रेसियों ने लिया संविधान की रक्षा का संकल्प

मुनिकीरेती। संविधान दिवस पर आयोजित संगोष्ठी में कांग्रेसियों ने भारतीय संविधान की रक्षा का संकल्प लिया। इस मौके पर संविधान में आम जन को...

रवि सैनी ऋषिकेश के नए कोतवाल

ऋषिकेश। रवि सैनी ऋषिकेश के नए कोतवाल होंगे। इसके अलावा छह अन्य पुलिस इंस्पेक्टर को इधर-उधर किया गया है। सभी के आज-कल में नई...

श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय ने बिठाई एक और जांच

नई टिहरी। श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय प्रशासन ने दो सहायक परीक्षा नियंत्रक के पदों पर हुई नियुक्तियों की जांच बिठाई है। पूर्व न्यायधीश की...