निजी स्कूलों पर नहीं चल रहा सरकार का जोर

निजी स्कूलों पर नहीं चल रहा सरकार का जोर

हरिद्वार। प्रदेश के सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें लागू कराने के सरकार के दावे की पोल बाजार में खुल रही है। प्राइवेट पब्लिशर की किताबें धड़ल्ले से बिक रही हैं। निजी स्कूलों पर सरकार का जोर कतई नहीं चल रहा है।

किताबों के नाम पर होने वाली लूट पर अंकुश लगाने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने का फरमान जारी कर दिया है। लोगों को लगा था कि इससे निजी स्कूलों की मनमानी पर अंकुश लगेगा। मगर, ऐसा फिलहाल नहीं दिख रहा है।

दरअसल, सरकार का ये फरमान सख्ती के अभाव में मजाक साबित हो रहा है। अधिकांश निजी स्कूल सरकार के इस फरमान की अनसुनी कर रहे हैं। सरकारी मशीनरी विभिन्न वजहां से फिलहाल सख्ती दिखाने के मूड़ में भी नही लग रही है।

ऐसे में अधिकांश निजी स्कूल अपने हिसाब की किताबें खरीदने के लिए अभिभावकों को मजबूर कर रहे हैं। कहा जा सकता किताबों के नाम पर लूट अभी भी जारी है। हाल फिलहाल इस पर अंकुश की सूरत भी दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है।

सरकार तक भी इसकी जानकारी अभिभावक विभिन्न माध्यमों से पहुंचा रहे हैं। बावजूद सरकार अखबारी सख्ती ही दिखा पा रही है।
इसको लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। शिक्षा विभाग के आलाधिकारी भी इस मामले में अभी तक खुद फील्ड में नहीं उतरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

विधायक चैंपियन की गुंडई पर क्यों चुप है सरकारः गरिमा दसौनी

देहरादून। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य एवं