बाजारों में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

बाजारों में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

- in ऋषिकेश
0

ऋषिकेश। राज्य के बड़े शहरों के बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही हैं। परिणाम कोरोना को लेकर बरती जाने वाली ऐतिहात सिरे से गायब हैं।

कोरोना से बचने के लिए सावधानी ही एक मात्र दवा है। इन दवाओं के नाम हैं सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, साबुन से बार-बार हाथ धोने और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना। सरकार लगातार लोगों को इनको फॉलो करने हेतु जागरूक कर रही है।

बावजूद इसके अधिसंख्य लोगों में अपेक्षित ऐतिहात नहीं दिख रही है। बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग दूर-दूर तक नहीं दिख रही है। सरकार ने धीरे-धीरे सभी व्यवस्थाओं को इस अपेक्षा के साथ खोल दिया है कि लोग कोरोना से बचाव को जरूर ऐतिहात बरतेंगे। मगर, ऐसा दूर-दूर तक देखने को नहीं मिल रहा है।

बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो होती नहीं दिख रही है। शाम के समय राज्य के बड़े शहरों के बाजारों के जो नजारे दिख रहे हैं वो डर पैदा कर रहे हैं। मास्क के मामले में भी ऐसा ही कुछ दिख रहा है। दुकानों में मास्क नहीं तो सामान नहीं का आहवान नजर नहीं आ रहा है। कुल मिलाकर हर स्तर पर कोरोना को लेकर लापरवाही देखने को मिल रही है।

लोगों में ये भ्रम देखने और सुनने को मिल रहा है कि अब कोरोना समाप्त हो गया है। जबकि ऐसा नहीं है। सरकारें लोगों को बार-बार इस बारे में जागरूक भी कर रही है। ये बात सच है कि देश और प्रदेश में रिकवरी रेट 87 प्रतिशत से अधिक है। मृत्युदर में लगातार कमी आ रही है।

बावजूद इसके अभी कोरोना को लेकर सत प्रतिशत ऐतिहात बरतने की जरूरत है। मगर, ऐसा दिख नहीं रहा है। ये चिंता की बात है। ऐसे में सवाल उठता है कि कहीं कोरोना को लेकर लोगां की लापरवाही भारी तो नहीं पड़ेगी।

यह भी पढ़ेः मुख्यमंत्री की पहल पर ’कोरोना वॉरियर से विनर’ आयोजित’

यह भी पढ़ेः केंद्रीय विवि के श्रीनगर परिसर हेतु बीए प्रथम वर्ष कटऑफ लिस्ट जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोरोना मीटरः 24 घंटे में 221 नए मामले, नौ की मौत और 319 ठीक हुए

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे में कोरोना