तीर्थनगरी में महा योग ध्यान कुंभ का शुभारंभ

तीर्थनगरी में महा योग ध्यान कुंभ का शुभारंभ

kumऋषिकेश। तीर्थनगरी में गंगा के तट पर चार दिवसीय महा योग ध्यान कुंभ शुरू हो गया। पिरामिड स्प्रिचुअल सोसाइटी मूवमेंट के बैनर तले आयोजित ध्यान कुंभ में देश के विभिन्न हिस्सों से आए डेढ़ हजार से अधिक ध्यान साधक इसमें शिरकत कर रहे हैं।

ग्ांगा की धवल लहरों, आस-पास के गंगा घाटों पर सायंकालीन आरती की स्वरलहरियों के बीच आती-जाती सांसों को महसूस करने का उपक्रम ध्याम कुंभ का गुरूवार देर शाम ब्रहमऋषि सुभाष पत्री और परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती ने महाकुंभ का शुभारंभ किया।

इस मौके स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि योग ध्यान से ही जीवन के असली उददेश्य हासिल किए जा सकते हैं। कहा कि स्वस्थ मन और अच्छे विचार के लिए ध्यान जरूरी है। कार्यक्रम में शिरकत कर रहे लोग ध्यान कुंभ के अनुभवों को जीवन में उतारेंगे।

ब्रहमऋषि सुभाष पत्री ने देवभूमि उत्तराखंड और गंगा का ध्यान करते हुए कहा कि यहां से प्रसारित होने वाले संदेश से हर कोई लाभान्वित होगा। उन्होंने कहा कि लोगों को ध्यान के लिए प्रेरित करने के लिए हो रहे प्रयासों को गति दी जा रही है। कहा कि अब लोग समझ रहे हैं। इससे समाज में स्वस्थ मन की महत्ता बढ़ेगी।

इस मौके पर केन पो रनपोचे, सुनील आचार्य, पिरामिड स्प्रिचुअल सोसाइटी मूवमेंट के डीएनल शास्त्री श्रीमती बसंता शास्त्री, अर्जुन कम्बोज, अरूणा सहगल, किशोर आदि मौजूद थे। इससे पूर्व परामर्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती ने ब्रहमऋषि सुभाष पत्री को रूद्राक्ष का पौधा देकर उनका तीर्थनगरी में स्वागत किया।

इस मौके पर ध्यान साधकों ने गंगा के तट पर आयोजित भव्य गंगा आरती में शिरकत की। शुक्रवार प्रातः पांच बजे से ध्यान योग की कक्षाएं शुरू हांगी। इसमें प्रख्यात प्रशिक्षकों सानिध्य मिलेगा। दोपहर में ध्यान से संबंधित विभिन्न विषयों पर डिवाइन टॉक होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोटद्वार में संस्कृत भारती का जनपदीय सम्मेलन

कोटद्वार। जागरूक लोगों को संस्कृत भाषा के संरक्षण