राजनीतिक संजीवनी के लिए हरिद्वार पहुंचे हरदा

राजनीतिक संजीवनी के लिए हरिद्वार पहुंचे हरदा

hrdaविधानसभा चुनाव में हर मोर्चे पर शिकस्त झेल चुके पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राजनीतिक संजीवनी के लिए हरिद्वार का रूख कर दिया है।

मध्य प्रदेश में हुई किसानों की मौत के विरोध में शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत लाव लश्कर के साथ तप के लिए हर की पैड़ी पर तप करने पहुंचे। उन्होंने कहा कि वो किसानों और दलितों पर अत्याचार कतई सहन नहीं करेंगे। कांग्रेस इस पर सवाल करेगी।

दरअसल, इस तप के बहाने हरदा हरिद्वार से स्वयं के लिए राजनीतिक संजीवनी जुटाना चाहते हैं। ये बात किसी से छिपी नहीं है कि चुनाव में लगातार शिकस्त के बाद हरिद्वार ने ही हरीश रावत को सहारा दिया था। हरिद्वार का सांसद रहते ही वो केंद्र में मंत्री और राज्य के मुख्यमंत्री भी बनें।

राज्य गठन के बाद पहली निर्वाचित सरकार के मुखिया एनडी तिवारी के खिलाफ रावत ने अधिकांश लेटर बम हरिद्वार से ही फोड़े। ऐसे में हरिद्वार की महत्ता को समझने वाले हरीश रावत एक बार फिर धर्मनगरी का रूख कर चुके हैं। वैसे भी इस बार विधानसभा चुनाव में उन्हें हर मोर्चे की करारी शिकस्त झेलनी पड़ी। कांग्रेस की सरकार तो गई। स्वयं रावत दो सीटों पर चुनाव हार गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोरोना मीटरः 213 नए मामले, छह की मौत और 422 ठीक हुए

देहरादून। पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के