गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज चिन्यालीसौड़ में नमामि गंगे पर कार्यशाला

गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज चिन्यालीसौड़ में नमामि गंगे पर कार्यशाला

- in उत्तरकाशी
0

चिन्यालीसौड़। गंगा समेत अन्य जल स्रोतों के संरक्षण और स्वच्छता के लिए आम लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। उच्च शिक्षा का इसका अहम रोल है।

ये कहना है यमुनोत्री के विधायक केदार सिंह रावत का। विधायक रावत बुधवार को गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज चिन्यालीसौड़ में नमामि गंगे के तहत आयोजित गंगा स्वच्छता पखवाड़े में आयोजित कार्यशाला के शुभारंभ के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि समाज को जागरूक करने की जरूरत है। ताकि गंगा समेत अन्य जल राशियों की स्वच्छता के लिए माहौल तैयार हो सकें। विशिष्ठ अतिथि पालिकाध्यक्ष बीना बिष्ट ने कॉलेज के स्तर पर हो रहे प्रयासों की सरहाना की।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए डा. कृष्णा डबराल ने स्वच्छता पखवाड़े पर प्रकाश डाला। बताया कि किस प्रकार से समाज तक जल स्रोतों की स्वच्छता की बात को पहुंचाया जा रहा है। प्रिंसिपल प्रो. संगीता मिश्रा ने अतिथियों का अभिनंदन किया और कॉलेज में छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए हो रहे प्रयासों की जानकारी दी।

डॉ अशोक कुमार अग्रवाल ने नमामि गंगे योजना एवं गंगा स्वच्छता संरक्षण के संबंध में अपने विचार रखे। कॉलेज के छात्रों द्वारा कार्यशाला के विषय पर आधारित नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर गंगा स्वच्छता का संदेश दिया ।

ब्लॉक प्रमुख डुंडा शैलेंद्र सिंह कोहली ने भी विचार रखे। गंगा स्वच्छता अभियान के अंतर्गत आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को अतिथियों द्वारा पुरस्कृत किया गया ।

कॉलेज की प्रिंसिपल प्रो. मिश्रा ने विधायक जी को आभार पत्र भेंट कर सम्मानित किया। साथ ही अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। अंत में नमामि गंगे के संयोजक डॉ खुशपाल सिंह ने अतिथि गणों को धन्यवाद ज्ञापित किया । डॉ विक्रम सिंहएडॉ शेला जोशीए डॉ मंजू भंडारी, डॉ प्रमोद कुमार, डॉ अशोक कुमार अग्रवाल, दिनेश,चंद्र, बृजेश चौहान, रजनी लशियाल, श्रीहरिप्रसाद, स्वर्ण सिंह गुलेरिया, मोहन लाल शाह, श्रीमती संगीता थपलियाल, जितेंद्र सिंह रोशन लाल आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोटद्वार में संस्कृत भारती का जनपदीय सम्मेलन

कोटद्वार। जागरूक लोगों को संस्कृत भाषा के संरक्षण