चारधाम यात्रियों के लिए अच्छी ख़बर, केदारनाथ धाम हेलीसेवा के लिए शुरू हुई ऑनलाइन बुकिंग, यहां करें आवेदन

Spread the love

देहरादून। केदारनाथ धाम के लिए ली सेवा की ऑनलाइन बुकिंग शुरू हो गई है। इसके लिए उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण (यूकाडा) ने पहले ही तैयारियां पूरी कर ली थी। एक अक्तूबर से हेली सेवा भी शुरू हो जाएगी। तीर्थयात्री बुकिंग के लिए http://heliservices.uk.gov.in वेबसाइट पर आवेदन कर सकते हैं।

हाईकोर्ट के आदेश पर सरकार ने 18 अक्तूबर से चारधाम यात्रा शुरू कर दी थी, लेकिन अभी तक केदारनाथ धाम के दर्शन करने जाने वाले तीर्थ यात्रियों को हेली सेवा की सुविधा नहीं मिल पाई है। मई में चारों धामों के कपाट खुलने से पहले यूकाडा ने हेली सेवा संचालन की तैयारियां पूरी कर ली थीं।

गुप्तकाशी, सिरसा, फाटा हेलीपैड से हेली सेवाओं का संचालन किया जाना है। पूर्व में वेबसाइट पर हेली सेवा की ऑनलाइन बुकिंग शुरू कर दी गई थी। जिस पर करीब 1100 तीर्थ यात्रियों ने बुकिंग भी करा ली थी, लेकिन चारधाम यात्रा पर रोक होने के चलते बुकिंग रद्द कर यात्रियों को पैसा वापस कर दिया गया था। यूकाडा की मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्वाति भदौरिया का कहना है कि 28 सितंबर से केदारनाथ हेली सेवा की ऑनलाइन बुकिंग शुरू की जाएगी और एक अक्तूबर से हेली सेवा का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

बदरीनाथ 920 और केदारनाथ में 584 यात्री पहुंचे

बदरीनाथ धाम में धीरे-धीरे तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ने लगी है। सोमवार को 920 तीर्थयात्रियों ने बदरीनाथ धाम के दर्शन किए। तीर्थयात्री धाम में इन दिनों पितृ तर्पण के लिए पहुंच रहे हैं। बदरीनाथ धाम में मौसम सामान्य बना है। सोमवार को धाम में दिनभर धूप खिली रही। वहीं, 566 तीर्थयात्रियों ने हेमकुंड साहिब व लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के दर्शन किए। वहीं केदारनाथ में 584 श्रद्धालुओं ने बाबा केदार के दर्शन किए।

यमुनोत्री जा रहे 200 तीर्थयात्री दुबाटा में रोके

यमुनोत्री धाम की यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों की मुसीबत कम होती नजर नहीं आ रही है। यहां दुबाटा के पास बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों को रोके जाने पर वे भड़क गए। उन्होंने एसडीएम बड़कोट शालिनी नेगी के समक्ष नाराजगी जताई। विभिन्न राज्यों के करीब 200 तीर्थयात्रियों को देवस्थानम बोर्ड का पास नहीं होने पर रोका गया था।

चारों धामों में पहले धाम यमुनोत्री धाम में एक दिन में सबसे कम 400 तीर्थयात्रियों के ही धाम के दर्शन की अनुमति है, जबकि यात्रा प्रारंभ होने के बाद से यहां बड़ी संख्या में तीर्थयात्री पहुंच रहे हैं। महाराष्ट्र, गुजरात, छत्तीसगढ़ और राजस्थान आदि राज्यों से आए 200 तीर्थयात्रियों को देवस्थानम का पास नहीं होने पर दुबाटा में रोका गया है।

गुजरात के तीर्थयात्री रमेश पटेल ने बताया कि वह 15 दिन से उत्तरकाशी में हैं, लेकिन उनके दो धामों की यात्रा पूरी नहीं हो पाई है। कहा कि दिन प्रतिदिन उनका यात्रा का बजट कम हो रहा है। ऐसे में वह आगे के दो धामों की यात्रा कैसे पूरी कर पाएंगे।

जब भी वह ई-पास बनाने जाते हैं, तो नेटवर्क में दिक्कत से पास नहीं बन पाता है। तीर्थयात्री राजी देसाई व सुषमा बेन ने सरकार की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि ऐसे व्यवस्था थी तो उन्हें हरिद्वार में ही रोक लेते। तीर्थयात्री जयराम ने भी व्यवस्था पर सवाल उठाए। तीर्थयात्रियों ने शासन-प्रशासन पर मनमर्जी के नियम थोपने का भी आरोप लगाया।

Amit Amoli

Leave a Reply

Your email address will not be published.