गौरा देवी जैवविविधता तालाब में डॉ. मधु थपलियाल की कोशिशें लाई रंग

गौरा देवी जैवविविधता तालाब में डॉ. मधु थपलियाल की कोशिशें लाई रंग
Spread the love

वॉइस ऑफ नेचर के बैनर तले पौधा रोपण

तीर्थ चेतना न्यूज

विश्व पर्यावरण दिवस पर गौर देवी जैवविविधता तालाब में डॉ. मधु थपलियाल की अगवाई में वॉइस ऑफ नेचर द्वारा दालचीनी, हरड, अमलतास का पौधा रोपण किया।

उल्लेखनीय है कि डा. मधु थपलियाल के नेतृत्व में क्षेत्र के कई जागरूक लोगों के प्रयासों से गौर देवी जैवविविधता तालाब ने अच्छे से आकार ले लिया। विश्व पर्यावरण दिवस पर यहां पर व्यापक पौधा रोपण कर जैवविविधता को बचाने का संकल्प लिया गया।

इस मौके पर डा. थपलियाल ने एमडीडीए के कार्यों की सराहना की। एमडीडीए ने तालाब को अतिक्रमण को रोकने के लिए चारों तरफ दीवार बनाई। हालांकि अभी इसे और संवारने की जरूरत है। ताकि वास्तव में शहर के बीचों-बीच स्थित तालाब जैवविविधत का संदेश लोगों तक पहुंचा सकें।

डा. थपलियाल ने पौधा रोपण में क्षेत्र की पर्यावरणीय परिस्थितियों का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। कहा कि देहरादून ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों में पौधा रोपण किया किया जाएगा। ताकि लुप्त हो रही प्राकृतिक जल स्रोत रिचार्ज हो सकें। इसके लिए बुरांस का वृक्षारोपण करने जा रहे हैं।

उन्होंने विश्व पर्यावरण दिवस की यात्रा से लेकर आदर्श पर्यावरणीय स्थितियों के हो रहे क्षय से बढ़ रहे तापमान का भी जिक्र किया। जोर देकर कहा कि हर साल स्थिति भयावह हो रही है।

वॉइस ऑफ नेचर के सचिव इंजीनियर विनोद प्रकाश रतूड़ी ने बताया कि आज हम भले ही यह देखें कि यह तो एक छोटा सा तालाब है, लेकिन ये छोटे से तालाब ऐसे नहीं थे। आज जनसंख्या के बढ़ने से जमीनों पर अतिक्रमण के कारण तथा कम जागरूकता के कारण हम अपनी धरती का प्राकृतिक स्वरूप खोते जा रहे हैं और आम आदमी उस भयावह स्थिति की कल्पना भी नहीं कर पारहा है कि हम कितने खतरनाक दौर से गुजर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें प्रकृति से अगाह प्रेम है और एक चिंता हमेशा बनी रहती है कि किस तरीके से आम आदमी के जहन में एक संवेदनशीलता अपनी प्रकृति को संजोए रखने के लिए संरक्षित रहने के लिए वह जगा सकें।

युवा पीढी की और से आस्था खंडूरी ने बताया की आज के कुछ युवा पर्यावरण के क्षेत्र में अच्छा काम कर रहे है पर आज अधिकतर युवा सोशल मीडिया पर है. जरूरत है कि आज का युवा इसमें बढ-चढ़ कर हिस्सा ले. आज गांव-गांव और केदारनाथ-बद्रीनाथ जैसी ऊंची चोटियों तकप्लास्टिक पहुंच चुका है। यह भी आवश्यक है कि यह जागरूकता और संवेदनशीलता लोगों में आए क्या हमें क्या हम को यह अधिकार है कि हम इस धरती को खत्म कर दें।

धरती ने हमें जो दिया है हम उसे और भी बेहतर करके आने वाली पीढी को सोंपे. इस अवसर पर वॉइस ऑफ नेचर की उपाध्यक्ष एवं जौनसारी लेखिका श्रीमती सुनीता चौहान ने कहा कि अगर हम अभी नहीं चेते तो बहुत जल्दी हमें निश्चित रूप से अपने प्राण अपनी आंखों के सामने खुली आंख से जाते हुऐ भी देखने होंगे।

कार्यक्रम में क्षेत्र के पार्षद श्री राकेश पंडित जी उपस्थित रहे और उन्होंने कहा कि नगर निगम के द्वारा गौरा देवी जैव विविधता तालाब को बचाने का हर संभव प्रयास किया जाएगा।

वाईस ऑफ नेचर की सदस्य श्रीमती श्रीमती शिवानी नैथानी ने बताया की हमारे क्षेत्र के सभी छोटे बच्चे आने वाले 10 और 20 सालों में बड़े होने वाले हैं। उनको यह समझाना जरूरी हो गया कि किस तरीके से उनको अपनी प्रकृति को संरक्षित रखना है। नहीं तो आने वाले समय में यदि धरती का तापमान बढ़ा तो इंसान लकड़ी और अंगारे की तरह भुन जाएगा।

श्रीमती लीना ने बताया कि गौर देवी बायोडायवर्सिटी पौंड में कई प्रकार के एम्फीबियनस, रैपटाईलस, मछलियां तथा कई प्रकार के पेड़ पौधे हैं जो एक बहुत बड़े क्षेत्र संरक्षित रखने मेंयोगदान देता है व वहां की इकोलॉजी को बनाऐ रखता है। पौधरोपण के दौरान डिफेंस कॉलोनी के कर्नल एस. एल. पैन्यूली ने पौधरोपण करते हुए बताया कि अगर अब भी नहीं चेते तो फिर जीवन से हाथ धोना निश्चित है।

वृक्षारोपण कार्यक्रम के दौरान फ्रैंड्स ऐन्कलैव की लीना, शिवानी, सिद्धार्थ, आस्था, मोहित, देवाशीष समेत कई लोग उपस्थित रहे। नगर निगम के पर्यावरण प्रहरी जो दृ शाह नगर फ्रेंड्स एन्क्लेव, डिफेंस कालोने में कार्यरत हैं, उन्होंने ने भी इस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।

Tirth Chetna

Leave a Reply

Your email address will not be published.