12 वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम घोषित होते ही महाविद्यालयों में शुरू होगी प्रवेश प्रक्रिया

12 वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम घोषित होते ही महाविद्यालयों में शुरू होगी प्रवेश प्रक्रिया

- in पौड़ी
0

कोटद्वार। 12 वीं की बोर्ड परीक्षा परिणाम घोषित होते ही राज्य की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में स्नातक प्रथम वर्ष में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

ये कहना प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत का। रावत शनिवार को कोटद्वार तहसील सभागार में पीजी कॉलेज कोटद्वार और गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज भाबर के प्रिंसिपल और विभागाध्यक्षों की बैठक ली। बैठक में उन्होंने उच्च शिक्षा की बेहतरी के लिए शासन स्तर से लिए गए निर्णयों से अवगत कराया।

साथ ही दोनों महाविद्यालयों की समस्या और जरूरतों के बारे जाना। कहा कि प्रत्येक महाविद्यालय में 20 कंप्यूटर, दो स्मार्ट क्लासरूम, 100 फर्नीचर, 10 शौचालय, रैंप, ई-बोर्ड, खेल का मैदान, वाटर प्यूरीफायर, प्रयोगशाला उपकरण, एवं महाविद्यालय की रंगाई, पुताई इत्यादि की भी जानकारी दी। साथ ही महाविद्यालय में रोजगार परक पाठ्यक्रमों के शुरू करने पर भी जोर दिया।

कहा कि विश्वविद्यालय स्तर पर अन्तिम वर्ष एवं अन्तिम सेमेस्टर के छात्र-छात्रों की परीक्षायें 24 अगस्त से 25 सितम्बर तक आयोजित की जायेंगी तथा 25 अक्टूबर तक परीक्षा फल घोषित कर दिया जायेगा जबकि 01 नवम्बर से नया सत्र शुरू कर दिया जायेगा।

इसके अलावा पुराने छात्र छात्राओं की सेमेस्टर परीक्षायें यूजीसी गाइडलाइन के अनुसार अगली कक्षाओं में प्रोमोट करते हुए 05 अगस्त तक परीक्षा फल घोषित कर 16 अगस्त से ऑनलाईन कक्षायें शुरू कर दी जायेंगी। 12वीं के परीक्षाफल घोषित होने के साथ ही समस्त राजकीय विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों बीए, बीएससी, एम, एमएससी आदि कक्षाओं में प्रथम वर्ष हेतु प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जायेगी तथा 01 नवम्बर से कक्षायें प्रारम्भ होंगी।

परीक्षायें आयोजित करने के लिए कॉलेज प्रशासन को तैयारियां करने के निर्देश दिये।। इससे पूर्व बैठक प्रारंभ होने पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, कोटद्वार की प्राचार्य प्रो. जानकी पंवार ने समस्त अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन किया।
प्रो पंवार ने उच्च शिक्षा जगत में माननीय मंत्री द्वारा शिक्षा में नवाचार हेतु किए गए सार्थक प्रयास जैसे प्रत्येक कार्य दिवस पर होने वाले ध्वजारोहण, राष्ट्रगीत, राष्ट्रगान ड्रेस कोड,एवं पुस्तक दान इत्यादि पर प्रकाश डाला।

इसी क्रम में विधायक लैंसडौन महंत दिलीप रावत जी ने उच्च शिक्षा में माननीय मंत्री जी द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की। निदेशक उच्च शिक्षा उत्तराखंड प्रो. कुमकुम रौतेला ने इस अवसर पर महाविद्यालयों के विकास में प्राचार्यो व प्राध्यापकों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि शिक्षक ही समाज को नई ऊंचाइयों तक ले जा सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि महाविद्यालय की नेक ग्रेडिंग के अपग्रेडेशन हेतु हरसंभव प्रयास किए जाएं।

बैठक में राजकीय महाविद्यालय भाबर के प्राचार्य प्रो. विजय अग्रवाल ने समस्त अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ० डीएम शर्मा ने किया। इस अवसर पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय से डॉ. महंत मोर्य, डॉ. एमडी कुशवाहा, डॉ. अनुराग अग्रवाल, डॉ. पीडी अग्रवाल, डॉ प्रीति रानी, डॉ. अमित कुमार जायसवाल, डॉ. स्मिता बडोला, डॉ. अभिषेक गोयल, डॉ.सीमा कुमारी, डॉ. भागवत रावत, डॉ. डीएस. चौहान, डॉ संजीव कुमार, विनोद सिंह, डॉ. हरीश प्रजापति, डॉ. किशोर चौहान,डॉ. वंदना चौहान आदि उपस्थित रहे।

राजकीय महाविद्यालय भाबर से डॉ. गीत शाह, डॉ. कुमार गौरव जैन, डॉ. कपिल कुमार, डॉ अनुराग शर्मा इत्यादि उपस्थित रहे। इस अवसर पर दोनों महाविद्यालय के प्राचार्य सहित दोनों महाविद्यालयों के कुल 29 प्राध्यापक उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

खास से आम हुआ है गवर्नमेंट पीजी कॉलेज ऋषिकेश

ऋषिकेश। गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, ऋषिकेश खास से आम