Sunday, December 5, 2021
Home ब्लॉग सांस में फांस

सांस में फांस

दीपावली के बाद दिल्ली व हरियाणा-उत्तर प्रदेश स्थित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में जो प्रदूषण खतरे के गंभीर स्तर तक जा पहुंचा, उसके मूल में पटाखे जलाने, मौसम, हवा का रुख के साथ जो अन्य प्रमुख कारण बताया जा रहा है, वह है किसानों द्वारा खेतों में पराली जलाया जाना। यह अध्ययन का विषय है कि वास्तव में पराली जलाने की इस प्रदूषण बढ़ाने में कितनी भूमिका रही, लेकिन यह एक ऐसी समस्या है, जिसका फौरी उपायों के बावजूद कारगर समाधान नहीं निकाला जा सका है। हालांकि, पंजाब में इस साल प्रदूषण का स्तर पिछले साल के मुकाबले कम रहा। लेकिन यह हकीकत है कि किसानों व प्रशासनिक अधिकारियों के बीच असहायता की सामान्य भावना के चलते खेतों में फिलहाल पराली जलाने का संकट बरकरार है। निस्संदेह, धान की कटाई के बाद खेत में छोड़े गये अवशेष यानी पराली जलाना कानूनन प्रतिबंधित है। लेकिन इस समस्या के जो भी समाधान प्रस्तुत किये गये, वे सभी कारगर साबित नहीं हुए हैं। पराली के निस्तारण के लिये एक मशीन के उपयोग हेतु सब्सिडी योजना को भी सीमित सफलता ही मिल पायी है। दरअसल, छोटे, सीमांत और मध्यम किसानों का एक बड़ा वर्ग इसकी लागत जुटाने में सक्षम नजर नहीं आया। वहीं आर्थिक दंड के प्रावधान भी कारगर साबित नहीं हुए। वास्तव में पंजाब आदि में खरीफ के बाद रबी की फसल बोने के लिये किसानों को कम ही समय मिल पाता है।

ऐसे में वे दूसरी फसल बोने की जल्दी में आनन-फानन पराली को ठिकाने लगाने के सरल उपाय के बारे में सोचते हैं, जिसमें सबसे आसान उसे खेत में ही पराली जलाना नजर आता है क्योंकि उसे श्रमिकों को पराली ढोने के लिए मजदूरी देने में बचत होती है। कुछ साल पहले सुप्रीम कोर्ट ने किसानों को प्रोत्साहित करने के लिये नकद इनाम योजना का सुझाव दिया था, लेकिन इससे जुड़ी व्यावहारिक दिक्कतों की वजह से यह योजना सिरे नहीं चढ़ सकी।

दरअसल, वक्त की नजाकत और पराली जलाने पर अंकुश लगाने के प्रयासों में निराशाजनक रूप से धीमी प्रगति को देखते हुए आवश्यकता महसूस की जा रही है कि किसी व्यावहारिक व्यावसायिक मॉडल को अपनाया जाये। जो सही मायनों में बदलावकारी कदम साबित हो। विदेशों में पराली के व्यावसायिक उपयोग के जरिये जहां इस समस्या का समाधान किया गया, वहीं किसानों की आय में भी वृद्धि की गई है। पंजाब में कुछ निजी फर्मों ने बायोगैस संयंत्रों में गैस उत्पादन तथा कुछ उत्पादों के निर्माण के लिये पराली खरीदने का बीड़ा उठाया है। निस्संदेह केंद्र व राज्य सरकारों को ऐसी सार्थक पहल करने वाले उद्यमियों को प्रोत्साहित करने की जरूरत है, जो व्यर्थ जलायी जाने वाली पराली को उत्पादकता बढ़ाने और किसानों को आर्थिक लाभ देने का प्रयास कर रहे हैं। दिल्ली की आम आदमी सरकार ने भी जैव अपघटकों के जरिये पराली निस्तारण में सफलता का दावा किया है। दावा किया जा रहा है कि खेत में एक रासायनिक स्प्रे से बीस से पच्चीस दिन के भीतर अधिकांश पराली को खेत की उर्वरकता बढ़ाने में तब्दील कर दिया जाता है।

RELATED ARTICLES

बिजली वाहनों के अनुकूल बनें नीतियां

भरत झुनझुनवाला ग्लासगो में चल रहे सीओपी26 पर्यावरण सम्मेलन में भारतीय वाहन निर्माताओं ने कहा है कि 2030 तक भारत में 70 प्रतिशत दोपहिया, 30...

जनजातीय गौरव दिवस: जनजातीय गौरव के लिए राष्ट्र प्रतिबद्ध

अर्जुन मुंडा भारत दुनिया का एक अनूठा देश है, जहाँ 700 से अधिक जनजातीय समुदाय के लोग निवास करते हैं। देश की ताकत, इसकी समृद्ध...

वित्तीय समावेशन में समृद्धि की राह

जयंतीलाल भंडारी हाल ही में 8 नवंबर को भारतीय स्टेट बैंक इकोरैप द्वारा प्रकाशित शोध रिपोर्ट के मुताबिक भारत अब वित्तीय समावेशन के मामले में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष कुंवर सिंह राणा का अभिनंदन

पौड़ी। जूनियर हाई स्कूल शिक्षक संघ की नव निर्वाचित प्रदेश कार्यकारिणी में उपाध्यक्ष पद पर निर्वाचित कुंवर सिंह राणा का पौड़ी में शिक्षकों ने...

’प्रधानमंत्री की ऐतिहासिक रैली ने साबित किया जनता भाजपा के साथःअनिता ममगाई’

ऋषिकेश। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देहरादून में हुई ऐतिहासिक रैली ने एक बार फिर साबित कर दिया कि उत्तराखंड की जनता भाजपा के साथ...

भाजपा के लिए संजीवनी साबित हो सकेगा पीएम मोदी का दौरा ?

सुदीप पंचभैया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दौरा उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी के लिए संजीवनी से कम नहीं है। कम से कम भाजपा कार्यकर्ता ऐसा...

दून विश्वविद्यालय में हर शनिवार को खास बनाएगा रंगमंच और लोक कला विभाग

देहरादून। दून विश्वविद्यालय में शनिवार कुछ खास होगा। इसका माध्यम बनेगा विश्वविद्यालय का रंगमंच और कला विभाग और अंग्रेजी विभाग। इसकी शुरूआत हो चुकी...

पूर्व मंत्री और उनके विधायक बेटे पर हमला, सीएम आवास पर धरने का ऐलान

देहरादून। भाजपा की मौजूदा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे यशपाल आर्य और उनके विधायक बेटे संजीव आर्य पर  हमले की सूचना है। आर्य और...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गिनाए डबल इंजन सरकार के लाभ

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजधानी में डबल इंजन सरकार से उत्तराखंड को हुए लाभ गिनाए। इसके साथ ही करोड़ों की सौगात देकर प्रधानमंत्री...

ऋषिकेश में गंगा पर बनेगा ट्रांसपरेंट झूला पुल, प्रधानमंत्री मोदी ने किया शिलान्यास

ऋषिकेश। विश्व प्रसिद्ध लक्ष्मणझूला पुल के पास ही बजरंग सेतु के नाम से ट्रांसपरेंट झूला पुल बनेगा प्रस्तावित झूला पुल देश में खास तरह...

श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के ऋषिकेश परिसर के स्नातक स्तर के विभाग होंगे अपग्रेड

श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के स्नातक स्तर के विभागों को अपग्रेड कर पीजी करने की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इसके लिए जल्द ही...

म्ंगला माता एवं महंत देवेंद्र दास को डी.लिट की उपाधि देगा दून विश्वविद्यालय

देहरादून। दून विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में समाज सेवा के कार्यों में लीन हंस फाउंडेशन की मंगला माता और श्री गुरू राम राय दरबार...

स्वीप टीम ने किया जीजीआईसी राजपुर रोड का दौरा

देहरादून। भारत निर्वाचन आयोग की टीम ने राजकीय बालिका इंटर कालेज, राजपुर रोड की छात्राओं के साथ संवाद करते हुए चुनाव प्रक्रिया के बारे...