जागरूकता से संभव है नशे की बढ़ती प्रवृत्ति को रोकनाः प्रो. प्रीति कुमारी

जागरूकता से संभव है नशे की बढ़ती प्रवृत्ति को रोकनाः प्रो. प्रीति कुमारी

- in पौड़ी
0

पोखड़ा। समाज और खासकर युवाओं में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति को जागरूकता से रोका जा सकता है। इसके लिए सामूहिक प्रयासों की दरकार है।

ये कहना है गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज की प्रिंसिपल प्रो. प्रीति कुमारी का। प्रो. प्रीति बुधवार को कॉलेज में एन्टी ड्रग क्लीनिक एवं धूम्रपान निषेध समिति के तत्वाधान में नशा उन्मूलन विषय पर विचार संगोष्ठी की अध्यक्षता कर रही थी। कहा कि नशीले पदार्थ के सेवन से सामाजिक मूल्यों मे गिरावट आती है और सामाजिक विघटन की स्थिति उत्पन्न होती है, जागरूकता फैलाकर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

मुख्य वक्ता सुबोध कुमार शर्मा ने कहा कियुवाओं में नशे का प्रचलन एक फैशन का रूप लेता जा रहा है। इस सामाजिक कुप्रथा पर तुरन्त विराम लगाने की आवश्यकता है। उन्होने बताया कि नशीले पदार्थों का सेवन प्रायः लोग कुंठा से ग्रसित होकर करते है, परन्तु नशा किसी भी असफलता हताशा या कुण्ठा का निराकरण नहीं करता। अतः नशे से सभी दूर रहे और अपने परिजनों एवं मित्रों को भी नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करें।

डॉ. सुशील भाटी ने परिसर मे सभी प्रकार के नशीले पदार्थों का सेवन पूर्णत निषेध एवं दण्डनीय अपराध है। डॉ. विपिन कुमार तिवारी ने कहा कि आधुनिक मीडिया सिनेमा आदि भी धूम्रपान एवं नशा निषेध को प्रचारित-प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाहन कर रहा है।

इस मौके पर डॉ. अटल बिहारी त्रिपाठी, डॉ. ब्रहमराज सिंह, डॉ. विपिन कुमार तिवारी, अजय कुमार, महाविद्यालय अभिभावक संघ के अध्यक्ष संजय बिष्ट, कुलदीप सिंह बिष्ट, सन्तोष कुमार, शशी प्रसाद, श्रीमती मोनिका रावत, श्रीमती कुसुम देवी, श्रीमती हेमलता देवी तथा अनेक छात्र/छात्राएं उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कोटद्वार में संस्कृत भारती का जनपदीय सम्मेलन

कोटद्वार। जागरूक लोगों को संस्कृत भाषा के संरक्षण