शांतिकुंज में पांच दिवसीय नारी चेतना जागरण शिविर शुरू

शांतिकुंज में पांच दिवसीय नारी चेतना जागरण शिविर शुरू

shantikunj

हरिद्वार। आज की महिला अबला नहीं है। वो हर क्षेत्र में अपनी मेधा और जज्बे का लोहा मनवा चुकी है। देश की तरक्की में उसका महत्वपूर्ण योगदान है।

ये कहना है शेफाली पांडया का। श्रीमती पांडया शांतिकुंज में पांच दिवसीय नारी चेतना जागरण शिविर के शुभारंभ के मौके पर बोल रही थी। उन्होंने आज की महिलाओं ने हर क्षेत्र में लोहा मनवाया है। उन्होंने मेधा और अपने जज्बे से देश की बेहतरी की दिशा तय की है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि आज महिलाओं को अबला नहीं कहा जा सकता है। वो पुरूषों के कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ रही है। समाज को उसकी मेधा पर गौर करना होगा। इस दिशा में समाज का रवैया भी बदला है। उन्हें बेहतरी के मौके भी मिल रहे हैं। इस दिशा में और काम करने की जरूरत है।

पांच दिवसीय नारी चेतना जागरण शिविर में गुजरात के 10 जिलों की तीन सौ से अधिक महिलाएं शिरकत कर रही हैं। इस मौके पर पांच दिनों तक चलने वाले जागरण शिविर के तहत होने वाले कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला गया।
इस मौके पर डा. गायत्री शर्मा, श्रीमती श्रीपर्णा दत्ता आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भाजपा विधायक पर महिला का शारीरिक शोषण का आरोप

देहरादून। उत्तराखंड में एक बार फिर हाईप्रोफाइल सेक्स