हड़तालः शिक्षकों को पड़ सकते हैं वेतन के लाले

हड़तालः शिक्षकों को पड़ सकते हैं वेतन के लाले

no-work-no-payसात दिन हड़ताल पर रहे शिक्षकों को वेतन के लाले पड़ सकते हैं। कारण कोषागारों ने शासन के नो वर्क नो पे के निर्देश का हवाला देना शुरू कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि राजकीय शिक्षक संघ के बैनर तले प्रदेश के हाई स्कूल और इंटर कालेजों के शिक्षकों ने विभिन्न मांगों को लेकर सात दिन हड़ताल पर रहे। हड़ताल के दौरान शासन के स्तर से नो वर्क नो पे का ऐलान किया गया।

शासन के साथ वार्ता के बाद शिक्षक काम पर लौट आए। वार्ता में शिक्षकों का किसी प्रकार से उत्पीड़न न करने का भरोसा अधिकारियों ने दिया था। मगर, अब जो बात सामने आ रही है वो उत्पीड़न जैसे ही है। टिहरी जिले के कुछ कोषागारों ने शिक्षकों के वेतन प्रपत्रों पर ऑब्जेक्शन लगाना शुरू कर दिया है।

कोषाधिकारी नो वर्क नो पे का हवाला दे रहे हैं। इस पर जल्द शासन के स्तर से निर्देश नहीं आए तो इस माह शिक्षकों को वेतन के लाले पड़ सकते हैं। इस सूचना से शिक्षक परेशान और नाराज हैं। शिक्षक इसे सरकार की उत्पीड़नात्मक कार्रवाई बता रहे हैं।

यही नहीं इस मामले में अब नाराज शिक्षक संघ के पदाधिकारियों को भी कोसने लगे हैं। ये बात भी सामने आ रही है कि शिक्षा विभाग के आलाधिकारी जानकारी के बावजूद के इस मामले का संज्ञान नहीं ले रहे हैं।

कुछ कोषाधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर स्वीकार किया कि नो वर्क नो पे को लेकर स्थिति स्पष्ट होने तक शिक्षकों के वेतन के मामले में कुछ नहीं कहा जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आम आदमी पार्टी ने बढ़ाया कई दिग्गज नेताओं का ब्लड प्रेशर

पौड़ी। आम आदमी पार्टी ने प्रदेश के राजनीति