शौर्य गाथाओं को नई पीढ़ी तक पहुंचाने की जरूरतः सीएम

शौर्य गाथाओं को नई पीढ़ी तक पहुंचाने की जरूरतः सीएम

11111

सांस्कृतिक विरासत को सहेजने और शौर्य गाथाओं को नई पीढ़ी तक पहुंचाने की जरूरत है। सरकार इस दिशा में काम कर रही है।

ये कहना है प्रदेश के मुख्यमंत्री हरीश रावत का। रावत पार्टी के वीर भड़ माधो सिंह भंडारी नृत्य नाटिका के शुभारंभ के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वीर भड़ माधो सिंह भंडारी की जीवन गाथा हमे प्रेरित करती है।
कैसे फर्ज और जनहित के सामने उन्होंने पुत्र को बलि के लिए प्रस्तुत कर दिया।
भीड़ को देख गदगद सीएम ने प्रदेश सरकार की उपलब्धियां भी रखी। कहा कि विभिन्न विधाओं से जुड़े कलाकारों की बेहतरी के लिए भी सरकार ने तमाम योजनाएं शुरू की हैं। बेटियों को आगे बढ़ाने पर सरकार का खास फोकस है।

साथ ही कृषि सेक्टर में सरकार लगातार स्थानीय उपजों को प्रमोट कर रही है। इस मौके पर उन्होंने 2017 के बाद का रोडमैप भी लोगों के सामने रखा। कहा कि 2020 तक वो प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को नौकरी देंगे। पेंशनर्स की संख्या बढ़ाकर 10 लाख करेंगे।

इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, महासचिव राजपाल खरोला, जयपाल जाटव, जिलाध्यक्ष हिमांशु बिजल्वाण, विरेंद्र सिंह कंडारी, जगमोहन भंडारी, रमेश उनियाल, विज्ञान विक्रम शाह, पूर्व मंत्री शूरवीर सिंह सजवाण, नरेंद्रनगर की पालिकाध्यक्ष श्रीमती दुर्गा राणा, पूर्व राजेंद्र राणा, प्रदीप राणा, मनोज द्विवेदी आदि मौजूद थे।
नृत्य नाटिका ने बांधा समा
22

ऋषिकेश। वीर भड़ माधो सिंह भंडारी के जीवन पर आधारित नृत्य नाटिका ने समा बांध दिया।

प्रसिद्व लोक कलाकार बलदेव राणा निर्देशित नृत्य नाटिका के एक एक पात्र ने अपने भूमिका का शानदार तरीके से प्रस्तुत किया। वीर भड़ भंडारी के स्वाभिमान, वीरता और मातृभूमि के लिए मर मिटने के जज्बे और जनहित के लिए बड़े त्याग को बड़े सटीक तरीके से प्रस्तुत किया गया।

इस नृत्य नाटिका को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

विधायक चैंपियन की गुंडई पर क्यों चुप है सरकारः गरिमा दसौनी

देहरादून। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य एवं