तीर्थनगरी में वेद और ऋचाओं के अध्ययन पर होगा फोकस

तीर्थनगरी में वेद और ऋचाओं के अध्ययन पर होगा फोकस

satyaश्री सत्य साई सेवा आर्गेनाइजेशन ने तीर्थनगरी ऋषिकेश में अपनी गतिविधियों को बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके तहत तीर्थनगरी में वेद के अध्ययन हेतु केंद्र विकसित किया जाएगा।

आर्गेनाइजेशन का तीर्थनगरी में तीन दिवसीय कार्यक्रम शुक्रवार से शुरू हो गया। पहले दिन के कार्यक्रम के बाद आर्गेनाइजेशन के अखिल भारतीय पदाधिकारी मीडिया से रूबरू हुए। राष्ट्रीय अध्यक्ष निमिश पांडया ने भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डाला।

कहा कि भगवान सत्य साई स्वयं 1960 में तीर्थनगरी आए थे। यहां पर उनके विचारों को फलीभूत किया जाएगा। इसके लिए योजना तैयार की गई है। इसके तहत ऋषिकेश में वेद का अध्ययन हेतु केंद्र विकसित किया जाएगा।

इसके अलावा वर्ष में एक ऐसा कार्यक्रम निर्धारित किया जा रहा है जिसके माध्यम से देश के आध्यात्मिक रूचि रखने वाले युवाओं को मंच मुहैया कराया जा सकें। साथ ही सत्य साईं आर्गेनाइजेशन के कार्यों को लोगों तक पहुंचाया जाएगा।

साथ ही कहा कि सत्य साई के सबसे प्रेम और सबकी सेवा के संदेश को मजबूती के साथ आगे बढ़ाया जाएगा। एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि तीर्थनगरी ऋषिकेश में संगठन की गतिविधियों को गति दी जाएगी। ताकि यहां के लोगों को इसका लाभ मिल सकें।

इस मौके पर यूपी और उत्तराखंड के प्रमुख राजीव चोपड़ा, आरजे रत्नाकर आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रो. रेणु नेगी होंगी गवर्नमेंट पीजी कॉलेज नई टिहरी की प्रिंसिपल

देहरादून। गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज और पीजी कॉलेज के